28 परमेश्वर की महिमा गाते, हम मिलकर आनंद मनाते

1

जय बोलें और आनंद करें!

जय बोलें और आनंद करें!

जय बोलें और आनंद करें!

जय बोलें और आनंद करें!

स्वभाव प्रभु का प्यारा है,

हम सबका है फ़र्ज़ गवाही दें, और प्रभु की जय बोलें।

जय बोलें, जय बोलें। जय बोलें, जय बोलें।

प्यारे भाइयो और बहनो, आपस में हम बेहद ख़ुश हैं,

हम ढोल बजाएं, नाचें-गाएं

देहधारी परमेश्वर की नवयुग की शुरुआत पर,

परमेश्वर की हम, जय बोलें,

जय बोलें। जय बोलें, जय बोलें।

2

बीच हमारे काम करे, बात करे ख़ुद परमेश्वर,

वह न्याय करे इंसानों की अधर्मिता का,

और करे उजागर दुराचार इंसानों का,

हैं परमेश्वर के अवतरण के रूबरू हम,

वो दयावान है, धर्मी है, तेजस्वी है,

परमेश्वर का स्वभाव बस ऐसा ही है।

हम शोर करें, जय जयकार करें, सारी महिमा हो, परमेश्वर की।

हम ऊंचे सुर में गायेंगे, हम उनकी शक्ति पायेंगे!

हम जितना नाचें, जितना गाएं, हम उतनी ही ख़ुशियां पाएं।

वो ही प्रभु का सच्चा प्रेमी जो सच्चे दिल से जय बोले।

जय बोलें, जय बोलें। जय बोलें, जय बोलें।

3

मत चूको बन जाओ गवाह और परमेश्वर की जय बोलो।

परमेश्वर का न्याय हमें स्वीकार है,

उसने हमको परिपूर्ण किया, निर्मलता दी।

परमेश्वर के उद्धार से हम आशिषीत हैं।

जय बोलें और आनंद करें!

जय बोलें और आनंद करें!

जय बोलें और आनंद करें!

जय बोलें और आनंद करें!

स्वभाव प्रभु का प्यारा है,

हम सबका है फ़र्ज़ गवाही दें, और प्रभु की जय बोलें।

जय बोलें, जय बोलें। जय बोलें, जय बोलें।

परमेश्वर का हर काम प्रकाशित है जग में,

वो सर्वशक्तिमान है, ज्ञानी है।

उसने पूरा कर लिया है दल विजेताओं का,

और बेआबरू किया शैतान को पराजित कर।

अपनी अनोखी इनायत से इंसान को है बचाने वाला वो परमेश्वर।

हम तो सहदिल सह नमन करते हैं,

हम तो सहदिल सह वंदन करते हैं।

हम सदा उसको समर्पण करेंगे

और जगत के जीव सब आनंद करेंगे।

धरती पर परमेश्वर की महिमा आई

सच्चे दिल से उसकी जय जयकार करें।

आओ मिलकर उसकी जय जयकार करें।

आओ मिलकर उसकी जय जयकार करें।

आओ मिलकर उसकी जय जयकार करें।

आओ मिलकर उसकी जय जयकार करें।

जय बोलें, जय बोलें। जय बोलें, जय बोलें।

जय बोलें, जय बोलें। जय बोलें, जय बोलें।

पिछला: 27 सर्वशक्तिमान परमेश्वर ही है जो हमें बचाता है

अगला: 29 मसीह का राज्य साकार हुआ है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें