163 मसीह पृथ्वी पर कार्य करने क्यों आया है

1

यूँ तो मसीह ईश्वर की तरफ़ से कार्य करे,

पर यह देह में अपनी छवि दिखाने के लिए नहीं।

वो खुद को दिखाने नहीं आता,

वो इंसान को नए युग में ले जाने आता है।

देह में मसीह का कार्य स्वयं ईश्वर का कार्य करना है।

इंसान को अपनी देह का सार पहचानने में सक्षम करना नहीं।

मसीह चाहे जैसे कार्य करे, उसके कर्म देह में प्राप्त किए जाते,

सामान्य मानवता के भीतर किए जाते।

वे नहीं अलौकिक या अपरिमेय, जैसा इंसान माने।

वो इंसान को ईश्वर का चेहरा पूरी तरह नहीं दिखाता।

ईश्वर देह बनता अपना कार्य पूरा करने,

सिर्फ़ इसलिए नहीं कि इंसान उसे देख सकें।

उसका कार्य उसकी पहचान की पुष्टि करे।

उसका प्रकटन उसके सार की पुष्टि करे।

वो छीनकर न लाए अपनी पहचान,

यह उसके कार्य और सार से तय होती।

2

यूँ तो मसीह ईश्वर के लिए कार्य करे, वो स्वर्ग के ईश्वर को न नकारे।

वो अपने ही कर्मों की घोषणा न करे।

नहीं, वो छिपता नम्र होकर अपनी ही देह में।

ईश्वर देह बनता अपना कार्य पूरा करने,

सिर्फ़ इसलिए नहीं कि इंसान उसे देख सकें।

उसका कार्य उसकी पहचान की पुष्टि करे।

उसका प्रकटन उसके सार की पुष्टि करे।

वो छीनकर न लाए अपनी पहचान,

यह उसके कार्य और सार से तय होती।

3

जो मसीह होने का झूठा दावा करते उनमें उसके गुण नहीं होते।

उनके अभिमानी, आत्म-प्रशंसा वाले तरीकों से तुलना करने पर,

दिखता मसीह सच में कैसा है।

जितने ज्यादा वे नकली होते, उतने ज्यादा इठलाते,

उतने ज्यादा चमत्कारों से मानवता को भटकाते।

झूठे मसीहों में ईश्वर का कोई गुण नहीं होता,

और मसीह उनके लक्षणों से निष्कलंक रहता है।

ईश्वर देह बनता अपना कार्य पूरा करने,

सिर्फ़ इसलिए नहीं कि इंसान उसे देख सकें।

उसका कार्य उसकी पहचान की पुष्टि करे।

उसका प्रकटन उसके सार की पुष्टि करे।

वो छीनकर न लाए अपनी पहचान,

यह उसके कार्य और सार से तय होती।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'स्वर्गिक परमपिता की इच्छा के प्रति आज्ञाकारिता ही मसीह का सार है' से रूपांतरित

पिछला: 162 ख़ामोशी से आता है हमारे मध्य परमेश्वर

अगला: 164 अंत के दिनों में परमेश्वर के देहधारण के पीछे का उद्देश्य

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें