162 ख़ामोशी से आता है हमारे मध्य परमेश्वर

1

मौन है परमेश्वर, सामने हमारे कभी प्रकट हुआ नहीं,

फिर भी कार्य उसका कभी रुका नहीं।

नज़र रखता है पूरी धरती पर, नियंत्रित करता है हर चीज़ को।

देखता है इंसान के सभी शब्दों को और काम को।

उसकी योजना के मुताबिक पूरा होता है धीरे-धीरे उसका प्रबंधन।

ख़ामोश, मगर बढ़ते हैं इंसान के करीब उसके कदम।

न्याय-पीठ उसकी तैनात होती है कायनात में,

उसके बाद होता है अवरोहण उसके सिंहासन का हमारे मध्य में,

उसके सिंहासन का हमारे मध्य में।

2

कैसा शानदार, भव्य और गंभीर नज़ारा है।

कपोत और सिंह के मानिंद, आत्मा का आगमन होता है।

सचमुच बुद्धिमान है, धार्मिक है, प्रतापी है वो।

अधिकार सहित, प्रेम और करुणा से भरपूर है वो।

उसकी योजना के मुताबिक पूरा होता है धीरे-धीरे उसका प्रबंधन।

ख़ामोश, मगर बढ़ते हैं इंसान के करीब उसके कदम, उसके कदम।

न्याय-पीठ उसकी तैनात होती है कायनात में,

उसके बाद होता है अवरोहण उसके सिंहासन का हमारे मध्य में,

उसके बाद होता है अवरोहण उसके सिंहासन का हमारे मध्य में।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर के प्रकटन को उसके न्याय और ताड़ना में देखना' से रूपांतरित

पिछला: 161 मसीह के प्रति मनुष्य के विरोध और अवज्ञा का मूल

अगला: 163 मसीह पृथ्वी पर कार्य करने क्यों आया है

परमेश्वर का आशीष आपके पास आएगा! हमसे संपर्क करने के लिए बटन पर क्लिक करके, आपको प्रभु की वापसी का शुभ समाचार मिलेगा, और 2023 में उनका स्वागत करने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें