298 कौन समझता है परमेश्वर की व्यथा?

1 इंसान को बचाने परमेश्वर देह बन गया है और उसने चरम अपमान सहा है। वह सत्य व्यक्त करता है और इंसान को जीवन देने के लिए अपना सब-कुछ देता है। उसके न्याय, ताड़ना, परीक्षण और शुद्धिकरण सब इंसान को शुद्ध करने के लिए हैं। इंसान का हृदय कपटी, स्वार्थी और दुष्ट है; लोग परमेश्वर के प्रति सतर्कता और गलतफमियों से भरे हैं। साल-दर-साल, दिन-ब-दिन, परमेश्वर परम धैर्य के साथ लोगों के वापस मुड़ने का इंतजार करता है। क्या कोई परमेश्वर की व्यथा समझ सकता है?

2 लोग केवल आशीष पाने के लिए परमेश्वर में विश्वास करते हैं; वे सत्य की खोज नहीं करते। वे दृढ़ता से प्रसिद्धि और संपत्ति के पीछे भागते हैं, और फिर भी उसका अनुमोदन पाने की आशा करते हैं। वे केवल अपनी संभावनाओं और मंजिलों की सोचते हैं, कभी उसकी इच्छा पर ध्यान नहीं देते। परमेश्वर उन लोगों के पश्चात्ताप का इंतजार करता है, जो उससे सच में प्रेम करते हैं। उसकी उदासी देखकर मुझे पछतावा होता है; मेरे लिए परमेश्वर का प्रेम बहुत गहरा है—फिर मैं उससे प्रेम क्यों नहीं करता? मैं एक आकांक्षा पूरी करने के लिए संकल्पित हूँ : अपना सच्चा प्रेम देने, परमेश्वर के प्रेम का प्रतिदान करने और उसे सुकून देने की आकांक्षा।

पिछला: 297 दुखद दुनिया के लिए एक विलाप

अगला: 299 परमेश्वर के शुभ समाचार की प्रतीक्षा में

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें