18 जब राज्य की सलामी गूँजती है

I

राज्य का युग अब पहले की तरह नहीं है।

इंसान के काम से इसका सरोकार नहीं है।

धरती पर आकर परमेश्वर अपना कार्य करता है,

इंसान उस कार्य का न तो अनुमान लगा सकता, न कर सकता है।

राज्य का निर्माण जब शुरू होता है,

तो देहधारी परमेश्वर अपनी सेवकाई शुरू करता है।

सम्राट सर्वोच्च सामर्थ्य हासिल करता है।

विश्व में राज्य उतर आया है।


II

अधीन है सब परमेश्वर की दया और प्रेम के,

साथ ही न्याय और परीक्षण के।

हो चुका था भ्रष्ट इंसान फिर भी ईश्वर,

इंसान के लिए दयालु, प्रेमी रहा है।

दी है ताड़ना एक बार परमेश्वर ने इंसान को,

जबकि समर्पित कर दिया था सबने ख़ुद को परमेश्वर के।

मगर क्या मध्य में नहीं हैं सब,

परमेश्वर के भेजे दुख और ताड़ना के?

जब गूँजे सलामी राज्य की,

तब गूँजें सात गर्जनाएँ भी,

कँपा दे ये धरती और स्वर्ग को,

हिला दे उच्चतम आकाश को;

थरथरा दे इंसान के दिल के तारों को।

गूंजे स्तुति-गान राज्य का

बड़े लाल अजगर के देश में,

सिद्ध करे इसके देश को तबाह किया,

और परमेश्वर ने धरती पर अपना राज्य स्थापित किया।


III

अपने पुत्रों, प्रजा की चरवाही के लिये

भेज रहा परमेश्वर दुनिया के देशों में

अब अपने स्वर्गदूतों को।

इससे मदद मिले उसके कार्य के अगले चरण को।

परमेश्वर युद्ध करे, बड़े लाल अजगर के बिल में जाकर।

देखेंगे लोग जब परमेश्वर को,

देह में किये उसके कामों को,

तो अंत होगा अजगर का, राख में बदलेगा बिल उसका।

बड़े लाल अजगर के इलाके में अब होता प्रकट परमेश्वर,

घुमाए चेहरा अपना सब की ओर।

काँपे पूरा आकाश, पूरा आकाश।

क्या है परमेश्वर के न्याय से मुक्त जगह कोई,

क्या है उसकी आपदा से मुक्त जगह कोई?

जहाँ भी जाए आपदा के बीज बोए परमेश्वर।

इंसान के लिये प्रेम और उद्धार है उसका ऐसा करना।

और भी ज़्यादा लोग जानें और देखें उसे

चाहता है परमेश्वर,

इस तरह आदर करें इस परमेश्वर का जो इतने बरस,

दूर था उनकी नज़रों से, जो इतना असली है आज मगर।


"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला: 17 परमेश्वर के प्रकटन की महत्ता

अगला: 19 विजेता है राज्य का सम्राट

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

Iसमझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग,सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के लिए...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप अंत के दिनों के मसीह—उद्धारकर्ता का प्रकटन और कार्य राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें