1030 जब मनुष्य अनंत मंजिल में प्रवेश करेगा

1

जब इंसान अनंत मंज़िल में प्रवेश करेगा,

वो सृष्टिकर्ता की आराधना करेगा।

चूँकि इंसान ने शाश्वत उद्धार पा लिया है,

वो किसी लक्ष्य का अनुसरण अब न करेगा,

शैतान द्वारा घेरे जाने का उसे डर न होगा।

इंसान अपनी जगह जान लेगा।

न्याय के बिना भी वो अपना कर्तव्य करेगा।

सभी होंगे ईश्वर के प्राणी, कोई ऊँच-नीच न होगी।

सभी बस अपना काम करेंगे।

सभी बस अपना काम करेंगे।

2

इंसान जी रहा होगा

एक व्यवस्थित दुनिया में जो है इंसान के लिए उपयुक्त।

अनंतकाल की मानवजाति बनकर विधाता को पूजने

इंसान अपना कर्तव्य करेगा।

इंसान ईश्वर के प्रकाश में जीवन पाएगा,

ईश्वर की सुरक्षा और देखभाल तले,

संग ईश्वर के, संग ईश्वर के।

इंसान धरती पर उचित जीवन जिएगा,

सही रास्ते में प्रवेश करेगा।

3

ईश्वर की 6,000 साल की प्रबंधन योजना

पूरी तरह शैतान को हरा देगी।

केवल जब यह काम ख़त्म होगा

तभी इस दुनिया में इंसान का जीवन शुरू होगा,

तभी इस दुनिया में इंसान का जीवन शुरू होगा।

तभी इंसान की होगी बेहतरीन ज़िंदगी।

फिर ईश्वर पा लेगा इंसान को रचने का

अपना मूल उद्देश्य

और इंसान की मूल सदृशता,

इंसान की मूल सदृशता।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'मनुष्य के सामान्य जीवन को बहाल करना और उसे एक अद्भुत मंज़िल पर ले जाना' से रूपांतरित

पिछला: 1029 जीवन-जल की निर्मल नदिया

अगला: 1 मनुष्य का पुत्र आता है धरती पर

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें