476 किसका अनुसरण करें नौजवान

1

नौजवानों की नज़रें पूर्वाग्रही, कपट से भरी नहीं होनी चाहिये।

न नौजवानों को घृणित और घातक तरीकों से काम करना चाहिये।

उनमें अरमान होने चाहिये, जी जान से आगे बढ़ना चाहिये,

न संभावनाओं को लेकर मायूस होना चाहिये,

ज़िंदगी और भविष्य पर विश्वास होना चाहिये।

नौजवानों को सूझ-बूझ, न्याय की खोज और सत्य में अटल होना चाहिये।

सुंदर चीज़ों का तुम्हें अनुसरण करना चाहिये,

सकारात्मक चीज़ों की वास्तविकता को हासिल करना चाहिये।

ज़िंदगी के प्रति ज़िम्मेदार होना चाहिये।

तुम्हें इसे हल्के में हरगिज़ न लेना चाहिये।

2

सत्य की राह पर नौजवानों को कायम रहना चाहिये।

इस तरह अपनी ज़िंदगी को परमेश्वर के लिये खपाना चाहिये।

सत्य का उनमें अभाव नहीं होना चाहिये,

न उन्हें झूठ और अधर्म को पनाह देनी चाहिये।

उन्हें सही रुख़ अपनाना चाहिये। उन्हें यूँ ही नहीं बह जाना चाहिये।

उनमें बलिदान का, इंसाफ और

सत्य के लिये लड़ने का साहस होना चाहिये।

3

नौजवानों को अंधेरे की शक्तियों के दमन के आगे झुकना नहीं चाहिये।

उनमें ज़िंदगी के मायने बदल देने का हौसला होना चाहिये।

नौजवानों को मुश्किलों के आगे हार नहीं माननी चाहिये।

उन्हें खुला और बेबाक होना चाहिये,

उन्हें साथी विश्वासियों को माफ कर देना चाहिये।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'युवा और वृद्ध लोगों के लिए वचन' से रूपांतरित

पिछला: 475 सबसे सार्थक जीवन

अगला: 477 परमेश्वर के वचनों को अपने आचरण का आधार बनाओ

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें