सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

सबसे सार्थक जीवन

I

एक सृजित प्राणी के तौर पर, आराधना करनी चाहिये परमेश्वर की तुम्हें।

एक सृजित प्राणी के तौर पर, बेहद सार्थक जीवन जीना चाहिये तुम्हें।

सही राह पर चलते हैं जो वो इंसान हो तुम।

तरक्की की खोज करते हैं जो वो इंसान हो तुम।

बड़े लाल अजगर के देश में

ऊपर उठते हैं जो वो इंसान हो तुम।

धार्मिक कहता है जिन्हें परमेश्वर वो इंसान हो तुम।

क्या यही नहीं है सबसे सार्थक जीवन,

सबसे सार्थक जीवन?

II

इंसान के तौर पर, परमेश्वर की ख़ातिर ख़ुद को खपाना चाहिये तुम्हें।

इंसान के तौर पर, हर दुख सहना चाहिये तुम्हें, तुम्हें, तुम्हें।

दुख जो सहते हो थोड़ा-सा तुम, उसे ख़ुशी से स्वीकार करना चाहिये तुम्हें,

पतरस और अय्यूब की तरह, सार्थक जीवन जीना चाहिये तुम्हें, तुम्हें, तुम्हें।

सही राह पर चलते हैं जो वो इंसान हो तुम।

तरक्की की खोज करते हैं जो वो इंसान हो तुम।

बड़े लाल अजगर के देश में

ऊपर उठते हैं जो वो इंसान हो।

सही राह पर चलते हैं जो वो इंसान हो तुम।

तरक्की की खोज करते हैं जो वो इंसान हो तुम।

बड़े लाल अजगर के देश में

ऊपर उठते हैं जो वो इंसान हो तुम।

धार्मिक कहता है जिन्हें परमेश्वर वो इंसान हो तुम।

क्या यही नहीं है सबसे सार्थक जीवन,

सबसे सार्थक जीवन?

"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला:परमेश्वर मानव जाति के लिए एक ज़्यादा सुंदर कल बनाता है

अगला:विश्वास के लिए मुख्य है परमेश्वर के वचनों को जीवन की वास्तविकता के रूप में स्वीकार करना