370 परमेश्वर को सबसे अधिक क्या दुखी करता है

1

इंसान के लिए ईश्वर के प्रयास साबित करें, इंसान से प्रेम उसका सार है।

और इंसान के काम साबित करें सत्य से उसकी नफरत और ईश-विरोध को।

उसे कोई कभी नहीं समझता, और वे उसे स्वीकार नहीं कर सकते,

जबकि वो सच्चे मन वाला है, उसके वचन कोमल और साफ हैं।

हमेशा ईश्वर फिक्र करे अपना अनुसरण करने वालों की।

पर वे कभी उसके वचनों को नहीं समझते।

वे उसके सुझाव को स्वीकार नहीं कर सकते।

यही ईश्वर को सबसे ज्यादा दुखी करता है।

2

ईश्वर ने जो काम उनको सौंपा है वे उसे अपनी मर्ज़ी से करते हैं,

बिना पूछे कि वो क्या चाहता है, न वे उसका इरादा खोजते।

फिर भी उसकी निष्ठा से सेवा का दंभ भरते हैं,

हाँ वे उसकी निष्ठा से सेवा का दंभ भरते हैं,

लेकिन उसके खिलाफ विद्रोह करते हैं,

अब भी उसके खिलाफ विद्रोह करते हैं।

हमेशा ईश्वर फिक्र करे अपना अनुसरण करने वालों की।

पर वे कभी उसके वचनों को नहीं समझते।

वे उसके सुझाव को स्वीकार नहीं कर सकते।

यही ईश्वर को सबसे ज्यादा दुखी करता है।

3

बहुत लोग मानें, वो सत्य नहीं, जिसे वे स्वीकार न सकें;

बहुत लोग मानें, वो सत्य नहीं, जिसका वे अभ्यास न कर सकें।

उन्होंने उसका सत्य नकार दिया है, ठुकरा दिया है, अलग कर दिया है।

कहने को तो वे उस पर विश्वास करें, पर समझें परदेसी, सत्य, मार्ग जीवन नहीं।

हमेशा ईश्वर फिक्र करे अपना अनुसरण करने वालों की।

पर वे कभी उसके वचनों को नहीं समझते।

वे उसके सुझाव को स्वीकार नहीं कर सकते।

यही ईश्वर को सबसे ज्यादा दुखी करता है।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'तुम लोगों को अपने कर्मों पर विचार करना चाहिए' से रूपांतरित

पिछला: 369 अंधेरे में हैं जो उन्हें ऊपर उठना चाहिये

अगला: 371 कौन परमेश्वर की इच्छा की परवाह कर सकता है?

2022 के लिए एक खास तोहफा—प्रभु के आगमन का स्वागत करने और आपदाओं के दौरान परमेश्वर की सुरक्षा पाने का मौका। क्या आप अपने परिवार के साथ यह विशेष आशीष पाना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें