412 अपने विश्वास को गंभीरता से न लेने का परिणाम

1

ईश्वर में विश्वास में सफलता इंसान के कामों से मिले।

इसमें असफल भी वे अपने कामों से ही होते।

तुम ऐसी चीज पाने के लिए कुछ भी करोगे,

जो ईश्वर में विश्वास से ज्यादा

मुश्किल और कष्टदायी है।


तुम उसे गंभीरता से, बिना किसी त्रुटि के करोगे।

अपने जीवन में तुम ऐसे प्रयास करते हो।


जिन चीजों के लिए समर्पित हो,

उनके लिए कुछ भी करोगे,

पर ईश्वर में अपनी आस्था के लिए

तुम वैसा नहीं करोगे।

जिनके पास ईमानदार दिल नहीं,

वे अपनी आस्था में असफल होते हैं।

क्या तुम्हारे बीच कई असफल लोग नहीं?


2

अपने प्रिय को नहीं पर ईश्वर की देह को धोखा दोगे।

तुम इन्हीं सिद्धांतों से जीते हो।

तुम्हें सत्य, जीवन, अपने आचरण के नियमों

या ईश्वर के श्रमसाध्य काम की नहीं,

देह से जुड़ी चीजों की जरूरत है।


ईश-कार्य को अनदेखा करते,

उसके वचन नहीं सुनते तुम।

ईश्वर देखता है, अपनी आस्था को

कितने हल्के में लेते हो तुम।


जिन चीजों के लिए समर्पित हो,

उनके लिए कुछ भी करोगे,

पर ईश्वर में अपनी आस्था के लिए

तुम वैसा नहीं करोगे।

जिनके पास ईमानदार दिल नहीं,

वे अपनी आस्था में असफल होते हैं।

क्या तुम्हारे बीच कई असफल लोग नहीं?


3

ईश्वर आशा करे

तुम अपनी मंजिल के लिए प्रयास करोगे,

बेहतर होगा कि तुम धोखेबाज ना हो,

नहीं तो ईश्वर को बड़ी निराशा होगी।

और इससे क्या होगा?

क्या तुम खुद को मूर्ख नहीं बना रहे?


जो अपने मंजिल की सोचते रहते,

फिर भी उसे बरबाद कर देते,

वे बचाए जाने में सबसे असमर्थ हैं।

वे कितने भी परेशान हों, उन पर तरस कौन खाएगा?

ईश्वर आशा करे कि तुम आपदा में न पड़ो

और तुम्हारी मंजिल अच्छी हो।


जिन चीजों के लिए समर्पित हो,

उनके लिए कुछ भी करोगे,

पर ईश्वर में अपनी आस्था के लिए

तुम वैसा नहीं करोगे।

जिनके पास ईमानदार दिल नहीं,

वे अपनी आस्था में असफल होते हैं।

क्या तुम्हारे बीच कई असफल लोग नहीं?


—वचन, खंड 1, परमेश्वर का प्रकटन और कार्य, गंतव्य के बारे में से रूपांतरित

पिछला: 411 परमेश्वर में विश्वास करके भी सत्य को स्वीकार न करना अविश्वासी होना है

अगला: 413 ऐसी आस्था जिसकी ईश्वर प्रशंसा न करे

परमेश्वर का आशीष आपके पास आएगा! हमसे संपर्क करने के लिए बटन पर क्लिक करके, आपको प्रभु की वापसी का शुभ समाचार मिलेगा, और 2024 में उनका स्वागत करने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

परमेश्वर का प्रकटन और कार्य परमेश्वर को जानने के बारे में अंत के दिनों के मसीह के प्रवचन सत्य के अनुसरण के बारे में I न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सत्य वास्तविकताएं जिनमें परमेश्वर के विश्वासियों को जरूर प्रवेश करना चाहिए मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवात्मक गवाहियाँ मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवात्मक गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें