411 परमेश्वर में विश्वास करके भी सत्य को स्वीकार न करना अविश्वासी होना है

1

कुछ लोगों को सत्य और न्याय से खुशी न मिले।

चाहें बस दौलत और ताकत सत्ता के ये भूखे ।

वे खोजें ऐसे समूहों और पादरियों को, जिनका बड़ा नाम है।

सच्चा मार्ग अपनाकर भी उनका विश्वास अधूरा है।

वे अपना दिल-दिमाग अर्पित न कर सकें,

पर खुद को ईश्वर को समर्पित करने की बात करें,

पादरियों और धर्मगुरुओं पर आँखें गड़ाए रहें।

वे तो मसीह को भी मुड़कर न देखें।

धन-दौलत, शान-ओ-शौकत में खोये रहें।

ईश्वर कहे जो सत्य की कीमत न जानें हैं अविश्वासी, हैं गद्दार।

ऐसे लोगों को कभी न मिलेगी मसीह की स्वीकृति।

2

उन्हें विश्वास न हो यह मामूली व्यक्ति इंसान को जीत सके, पूर्ण कर सके।

वे ये सोचकर हँसे कि ये तुच्छ लोग हैं परमेश्वर द्वारा चुने गए।

उन्हें लगे कि ऐसे लोग अगर ईश्वर का उद्धार पाएंगे,

तो स्वर्ग और धरती उलट जाएंगे, और सभी हँसते-हँसते गिर जाएंगे।

उन्हें लगे अगर ईश्वर ऐसे तुच्छ लोगों को पूर्ण करेगा

तब वो महापुरुष स्वयं परमेश्वर बन जाएंगे।

उनकी सोच पर अविश्वास के रंग हैं।

अविश्वासियों से भी बदतर, वे तो भद्दे जानवर हैं।

वे बस नाम और हैसियत की, ताकत और बड़े संप्रदायों की कद्र करें,

मसीह के अनुयायियों की उन्हें परवाह नहीं।

वे मसीह, सत्य और जीवन से गद्दारी करें।

ईश्वर कहे जो सत्य की कीमत न जानें हैं अविश्वासी, हैं गद्दार।

ऐसे लोगों को कभी न मिलेगी मसीह की स्वीकृति।

3

क्या अब तुम देख पाते, कितना अविश्वास भरा है तुममें?

कितने विश्वासघाती हो मसीह के प्रति?

ईश्वर कहे, खुद को पूरी तरह अर्पित करो

क्योंकि तुमने सत्य का मार्ग चुना है।

तुम्हें पता होना चाहिए कि ईश्वर उन सभी का है

जो सच में विश्वास और आराधना करें।

ईश्वर संसार का नहीं, न है किसी एक इंसान का।

वो है उनका जो हैं समर्पित, निष्ठावान उसके प्रति।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'क्या तुम परमेश्वर के एक सच्चे विश्वासी हो?' से रूपांतरित

पिछला: 410 तुम्हारा विश्वास अभी भी भ्रमित है

अगला: 412 अपने विश्वास को गंभीरता से न लेने का परिणाम

2022 के लिए एक खास तोहफा—प्रभु के आगमन का स्वागत करने और आपदाओं के दौरान परमेश्वर की सुरक्षा पाने का मौका। क्या आप अपने परिवार के साथ यह विशेष आशीष पाना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें