410 तुम्हारा विश्वास अभी भी भ्रमित है

1

बहुतों ने बेहिचक ईश्वर का अनुसरण किया है। तुम भी बरसों थके हो।

ईश्वर तुम्हारी प्रकृति और आदतों से वाकिफ़ है।

तुम्हारे साथ रहना मुश्किल रहा है।

हालाँकि वो तुम्हें जानता है,

पर अफ़सोस, तुम उसके बारे में कुछ भी जानते नहीं।

तुम उसके स्वभाव को जानते नहीं। तुम उसके मन की थाह पा सकते नहीं।

तुम्हारी ग़लतफ़हमियाँ बढ़ती जा रही हैं, और भ्रमित है उसमें तुम्हारी आस्था।

2

न कहो कि ईश्वर में है आस्था तुम्हें, कहना चाहिए, तुम चापलूसी कर रहे हो।

जो भी तुम्हें इनाम दे, आपदाओं से बचाए,

तुम उसका अनुसरण करते हो, तुम्हें चिंता नहीं, वो ईश्वर है या कोई ख़ास ईश्वर।

बहुत से इस गंभीर स्थिति में है।

अगर ये देखने के लिए तुम्हारा इम्तहान हो,

क्या तुम मसीह के सार को समझकर आस्था रखते हो

तो कोई भी ईश्वर को संतुष्ट न कर पाएगा।

तुम उसके स्वभाव को जानते नहीं। तुम उसके मन की थाह पा सकते नहीं।

तुम्हारी ग़लतफ़हमियाँ बढ़ती जा रही हैं, और भ्रमित है उसमें तुम्हारी आस्था।

3

कल्पनाओं से भरी है तुम्हारी आस्था;

ये बहुत दूर है व्यवहारिक ईश्वर से, तो क्या सार है तुम्हारी आस्था का?

तुम्हें ईश्वर से दूर करे तुम्हारी झूठी आस्था, तो क्या सार है इस मसले का?

तुममें से ये किसी ने सोचा नहीं, ना ही तुम समझो इसकी गंभीरता को।

क्या तुमने सोचा है ऐसी आस्था का नतीजा?

तुम उसके स्वभाव को जानते नहीं। तुम उसके मन की थाह पा सकते नहीं।

तुम्हारी ग़लतफ़हमियाँ बढ़ती जा रही हैं, और भ्रमित है उसमें तुम्हारी आस्था।

तुम्हारी ग़लतफ़हमियाँ बढ़ती जा रही हैं,

और भ्रमित है उसमें तुम्हारी आस्था, आस्था।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'पृथ्वी के परमेश्वर को कैसे जानें' से रूपांतरित

पिछला: 409 लोग परमेश्वर में सचमुच विश्वास नहीं करते हैं

अगला: 411 परमेश्वर में विश्वास करके भी सत्य को स्वीकार न करना अविश्वासी होना है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें