481 इंसान को परमेश्वर की राह पर कैसे चलना चाहिए

I

ईश्वर की राह पे चलना नियमों का पालन नहीं है।

ये है देखना हर चीजों को जैसे ईश्वर ने व्यवस्थित है किया,

ज़िम्मेदारी जो है तुम्हें प्रदान की गई,

तुम्हें सौंपी गयी कोई चीज़, परीक्षण दिए गए द्वारा उसके।

ईश्वर की राह पे चलते हुये, ईश्वर को नाराज़ न करो।

ईश्वर के स्वभाव का अपमान न करो।

ईश्वर की राह पे चलते हुए।


II

किसी चीज़ का सामना करो जब, होना चाहिए एक स्तर तुम्हारा,

जानकर की ये है आता ईश्वर के हाथ से। ओ...

ईश्वर की राह पे चलते हुये, ईश्वर को नाराज़ न करो।

ईश्वर के स्वभाव का अपमान न करो।

ईश्वर की राह पे चलते हुए।

ओ....


III

तुम्हे सोचना चाहिए कैसे इस मामले से निपटना चाहिए,

करने को पूरी ज़िम्मेदारियाँ

और होने को वफ़ादार उसके प्रति, उसके प्रति।

ईश्वर की राह पे चलते हुये, ईश्वर को नाराज़ न करो।

ईश्वर के स्वभाव का अपमान न करो।

ईश्वर की राह पे चलते हुए।

ईश्वर की राह पे चलते हुए।

ओ...


"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला: 480 जीवन को परमेश्वर के वचनों से भरो

अगला: 482 परमेश्वर के वचनों को जो संजोते हैं वे धन्य हैं

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

Iसमझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग,सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के लिए...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप अंत के दिनों के मसीह—उद्धारकर्ता का प्रकटन और कार्य राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें