482 परमेश्वर के वचनों को जो संजोते हैं वे धन्य हैं

1

तैयार हैं जो परमेश्वर की निगरानी स्वीकारने को,

करते हैं वही अनुसरण परमेश्वर के ज्ञान का।

तैयार हैं वे परमेश्वर के वचन स्वीकारने को।

परमेश्वर की विरासत और आशीष वे पाएंगे।

यही वे लोग हैं जो परम भाग्यशाली हैं।

जिनके दिल में जगह नहीं उसकी, परमेश्वर उन्हें धिक्कारता है।

ताड़ना देता है, त्याग देता है परमेश्वर उन्हें।

2

परमेश्वर कार्य करता है उनमें, जो अनुसरण करते हैं उसके वचनों का।

वो काम करता है उनमें जो संजोते हैं उन्हें।

तुम जितना सहेजते हो उन्हें, उतना ही काम करता वो।

जितना सहेजता है इंसान परमेश्वर के वचनों को,

उतने ही ज़्यादा होते हैं पूर्णता पाने के उसके अवसर।

जो करते हैं सच्चा प्यार उसे, उसके सामने सुकून है जिनके दिलों में,

उन्हें ही पूर्ण करता है परमेश्वर।

अगर तुम संजोते हो परमेश्वर के सारे काम को,

संजोते हो उसकी प्रबुद्धता को,

अगर तुम संजोते हो परमेश्वर की मौजूदगी को,

संजोते हो उसकी सुरक्षा को,

अगर तुम संजोते हो परमेश्वर के सारे वचनों को,

अपनी हकीकत, अपने पोषण की तरह,

तो तुम परमेश्वर के दिल के मुताबिक हो।

अगर तुम संजोते हो ख़ुद पर किये परमेश्वर के काम को,

तो वो तुम्हें दुआ देगा, जो तुम्हारा है, वो बढ़ता रहेगा,

जो तुम्हारा है, वो बढ़ता रहेगा।

3

परमेश्वर के वचनों को अपनी हकीकत बनाने का प्रयास करो,

संतुष्ट करो उसे, उसके दिल के मुताबिक हो जाओ।

महज़ उसकी कृपा का आनंद लेने का प्रयास न करो।

ग्रहण करो परमेश्वर के कार्य को और पूर्णता पाओ।

उसकी इच्छा को पूरा करने वाले बनो।

इससे अहम कुछ भी नहीं।

अगर तुम संजोते हो परमेश्वर के सारे काम को,

संजोते हो उसकी प्रबुद्धता को,

अगर तुम संजोते हो परमेश्वर की मौजूदगी को,

संजोते हो उसकी सुरक्षा को,

अगर तुम संजोते हो परमेश्वर के सारे वचनों को,

अपनी हकीकत, अपने पोषण की तरह,

तो तुम परमेश्वर के दिल के मुताबिक हो।

अगर तुम संजोते हो ख़ुद पर किये परमेश्वर के काम को,

तो वो तुम्हें दुआ देगा, जो तुम्हारा है, वो बढ़ता रहेगा,

जो तुम्हारा है, वो बढ़ता रहेगा।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर उन्हें पूर्ण बनाता है, जो उसके हृदय के अनुसार हैं' से रूपांतरित

पिछला: 481 इंसान को परमेश्वर की राह पर कैसे चलना चाहिए

अगला: 483 चाहे बड़ा हो या छोटा, सबकुछ मायने रखता है जब परमेश्वर की राह का पालन कर रहे हो

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें