18 न्याय की तुरही बजी है

1

परमेश्वर प्रकट हुआ है, उसने बात की है,

सभी सम्प्रदायों को झकझोरते हुए।

वह सत्य बोलता है, अधर्मिता का न्याय करता है,

और अपने सभी शत्रुओं को परास्त करता है।

सभी उसकी उपासना और उसके कार्यों की सराहना करते हैं।

परमेश्वर की वापसी के स्वागत में सितारे भी कतारबद्ध हो जाते हैं।

धरती पर सारे लोग जयकार करते हैं कि

उसने राज्य को हासिल किया है, वह धरती पर आया है।

परमेश्वर के वचनों का सत्य धरती पर शासन करता है।

परमेश्वर पूर्णतः विजयी हुआ है।

उसके वचन सब कुछ पूरा करते हैं, उसका काम हो चुका है।

हम स्तुति करते हैं कि वह पवित्र और धार्मिक है।

2

हम उसकी आवाज़ का अनुकरण कर उसके सिंहासन तक जाते हैं।

हम सभी परमेश्वर के न्याय को मानते हैं,

और शुद्धिकरण से गुज़रते हैं।

प्रशंसा और विस्मय हमारे दिलों में जागते हैं।

हम अपने आप को पूरी तरह से अर्पित करते हैं

ताकि मसीह की गवाही दें, अपने उद्देश्यों को पूरा करें।

परमेश्वर अब राजा है, उसके वचन हम पर शासन करते हैं।

सभी झुकते हैं, उसके पवित्र नाम की स्तुति करते हैं।

परमेश्वर के वचनों का सत्य धरती पर शासन करता है।

परमेश्वर पूर्णतः विजयी हुआ है।

उसके वचन सब कुछ पूरा करते हैं, उसका काम हो चुका है।

हम स्तुति करते हैं कि वह पवित्र और धार्मिक है।

3

परमेश्वर प्रतापी है, परमेश्वर क्रोध है,

वह किसी भी मनुष्य के अपराध को स्वीकार नहीं करता है।

शैतान मृत्यु की पीड़ा में है,

वह लपटों के बीच से पुकारता है।

परमेश्वर दुष्टों के देश, चीन को नष्ट करता है,

इस तरह वह हमें अपनी धर्मिता दिखाता है।

उसके चयनित लोग कठिन समय में उसकी गवाही देते हैं।

परमेश्वर ने शैतान को हराया है, विजेताओं को बनाया है।

परमेश्वर के वचनों का सत्य धरती पर शासन करता है।

परमेश्वर पूर्णतः विजयी हुआ है।

उसके वचन सब कुछ पूरा करते हैं, उसका काम हो चुका है।

हम स्तुति करते हैं कि वह पवित्र और धार्मिक है।

4

परमेश्वर के वचन अब धरती के छोरों तक

फैल चुके हैं,

और उसका राज्य यहाँ है।

धर्मिता का सूर्य

सारी दुनिया को प्रकाशित करता है,

सारी चीज़ें नई हो जाती हैं।

परमेश्वर के वचनों का सत्य धरती पर शासन करता है।

परमेश्वर पूर्णतः विजयी हुआ है।

उसके वचन सब कुछ पूरा करते हैं, उसका काम हो चुका है।

हम स्तुति करते हैं कि वह पवित्र और धार्मिक है।

पिछला: 17 सिंहासन पर विराजमान है परमेश्वर

अगला: 19 राज्य के नज़ारे लगते हैं नये सदा

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें