19 राज्य के नज़ारे लगते हैं नये सदा

1

धुंधले आसमान से चमकता है उगता सूरज पूरब में,

लौट आया है साकार रूप लेकर

इस जगत में मुक्तिदाता।

राज्य-जीवन को अंगीकार कर रही है दुनिया,

जीवंत हो उठी है हर चीज़।

आह! अब हो गया है सवेरा।

आह! हमारी नज़रों के सामने है रोशनी।

साकार हुई हैं उम्मीदें दो हज़ार सालों की।

बीत चुके हैं मायूसी के बरस, गुज़र चुके हैं ग़मों के दिन-रात।

हालेल्लुया! हालेल्लुया!

2

फूल खिलकर बिखेरते हैं मधुर ख़ुश्बू,

चक्रवाक गाते हैं ऊंचे सुरों में।

मानव पुत्र के आगमन के ऐलान और गवाही से,

परमेश्वर-जन अपने जज़्बात का इज़हार करते हैं,

कहते हैं खुलकर अपने मन की बात, एक होकर सभी।

प्रार्थना करो श्रद्धा से! गाओ सब ऊँचे सुर में!

नमन करो सिंहासन को सभी।

स्तुति कर रहे हैं हम परमेश्वर की। सुदूर देशों के हमारे भाई-बहनो,

दूर के हमारे परिजनो, आओ उत्सव मनाएं।

हालेल्लुया! हालेल्लुया!

3

सर्वशक्तिमान परमेश्वर, अंतिम मसीह ने किया है देहधारण

और कर रहा है कार्य अपना, बीच इंसानों के।

इंसान का न्याय करने के लिये सत्य व्यक्त करता है वो,

शुद्ध और पूर्ण करते हैं जन-समूह को उसके वचन।

पोषण देते हैं हमारे दिल को,

आपूर्ति देते हमारे जीवन को परमेश्वर के वचन,

धन्य हैं हम, मधुर हैं हम।

ख़ुशकिस्मत है पीढ़ी हमारी जो आ गई है शरण में परमेश्वर की

और यही है प्रेम परमेश्वर का।

हालेल्लुया! हालेल्लुया!

4

राज्य के युग में प्रवेश पाने को, तरसते हैं हम।

उसके न्याय का अनुभव करके, बचा लिये और जीत लिये गए हैं हम।

आभारी हैं बहुत हम परमेश्वर के, उसकी स्तुति करते हैं हम।

पूरी सामर्थ्य से आगे बढ़ें हम।

पूरी शक्ति से करें संघर्ष हम,

परमेश्वर की इच्छा को पूरा करके।

पतरस का जोश आत्मा, संघर्ष करने को

और अब सच्चा इंसानी जीवन जीने के लिये,

परमेश्वर की इच्छा को पूरा करने को संकल्पित हम।

हालेल्लुया! हालेल्लुया! हालेल्लुया!

पिछला: 18 न्याय की तुरही बजी है

अगला: 20 सहस्त्राब्दी का राज्य नज़र आता है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें