416 सच्ची प्रार्थना

1

सच्ची दुआ अपने दिल की बातों को परमेश्वर के सामने कहना है,

यह परमेश्वर की मर्ज़ी और उसके वचन पर आधारित है।

सच्ची दुआ परमेश्वर को अपने करीब महसूस करना है,

जैसे वो ख़ुद तेरे सामने हो।

सच्ची प्रार्थना का मतलब तुझे परमेश्वर से बहुत कुछ कहना है,

तेरा दिल सूरज के समान उज्ज्वल है,

तू परमेश्वर की सुंदरता से प्रेरित होता है, जो सुनते हैं वो संतुष्ट होते हैं।

सच्ची प्रार्थना शांति और आनंद दोनों लाएगी,

इससे परमेश्वर से प्रेम करने की सामर्थ बढ़ती है,

परमेश्वर से प्रेम करने की कीमत महसूस होती है;

और यह सब सिद्ध करेगा कि तुम्हारी प्रार्थना सच्ची है।

2

सच्ची दुआ औपचारिकता नहीं है,

प्रक्रिया नहीं है और न ही वचन को महज़ पढ़ना है।

सच्ची दुआ का मतलब दूसरों का अनुसरण करना नहीं है।

अपने दिल की कहो और परमेश्वर के द्वारा स्पर्श किये जाओ।

अपनी प्रार्थना को प्रभावी करने के लिए,

तुम्हें परमेश्वर का वचन पढ़ना ही चाहिये।

और केवल परमेश्वर के वचन के मध्य

प्रार्थना करने से ही रोशनी देखी जायेगी।

3

सच्ची प्रार्थना उस दिल से प्रदर्शित होती है

जिसमें तड़प हो ईश्वर की इच्छा जानने की,

और उसे पूरा करने

की और जो नफरत करे उन सबसे जिसे परमेश्वर पसंद ना करे।

इस के आधार पर तेरे पास ज्ञान होगा,

वह सभी सच जो ईश्वर कहता है वह तुझे स्पष्ट होगा।

प्रार्थना के बाद पाना मजबूत विश्वास और अभ्यास का एक तरीका।

बस यही है सच्ची प्रार्थना हाँ, बस यही है सच्ची प्रार्थना।

बस यही है सच्ची प्रार्थना। हाँ, बस यही है सच्ची प्रार्थना।

सच्ची प्रार्थना शांति और आनंद दोनों लाएगी,

इससे परमेश्वर से प्रेम करने की सामर्थ बढ़ती है,

परमेश्वर से प्रेम करने की कीमत महसूस होती है;

और यह सब सिद्ध करेगा कि तुम्हारी प्रार्थना सच्ची है।

तुम्हारी प्रार्थना सच्ची है। तुम्हारी प्रार्थना सच्ची है।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'प्रार्थना के अभ्यास के बारे में' से रूपांतरित

पिछला: 415 सफलता या विफलता मनुष्य की कोशिश पर निर्भर है

अगला: 417 मनुष्य की पुकार पर परमेश्वर देता है वो जिसकी उसे ज़रूरत है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें