281 समय

1

अकेली रूह चली आई है इतनी दूर से,

भविष्य को जाँचती, अतीत को खोजती,

कड़ी मेहनत करती, सपनों का पीछा करती।

इस बात से अनजान, कहाँ से आती-जाती है वो,

आँसुओं में पैदा होती, मायूसी में गुम होती।

कदमों तले कुचली जाती ख़ुद को संभालती फिर भी।

तुम्हारा आना कर देता है भटके व्यथित जीवन का अंत।

मुझको दिखती उम्मीद की किरण,

स्वागत करती हूँ सुबह की रोशनी का।

दूर कोहरे में पाती हूँ झलक तुम्हारे रूप की।

वो चमक है, वो चमक है तुम्हारे चेहरे की।


2

भटक गई थी मैं कल अनजान देश में,

मगर आज पा ली है राह मैंने अपने घर की।

ज़ख़्मों से छलनी, इंसान से अलग,

जीवन सपना है, मैं विलाप करती हूँ।

तुम्हारा आना कर देता है भटके व्यथित जीवन का अंत।

अब खोई हुई नहीं हूँ, भटकी हुई नहीं हूँ मैं।

अब अपने घर में हूँ मैं। तुम्हारा सफ़ेद लिबास दिखता है मुझे।

वो चमक है, वो चमक है तुम्हारे चेहरे की।

कितने जनम लिये, जनम लिये कितने साल इंतज़ार किया,

सर्वशक्तिमान परमेश्वर का अब आगमन हुआ।

अकेली रूह को मिल गई राह, अब दुखी नहीं है ये।

हज़ारों साल का ये सपना।

पिछला: 280 तुम सच्चा जीवन हो मेरा

अगला: 282 परमेश्वर में आस्था की उक्तियाँ

परमेश्वर का आशीष आपके पास आएगा! हमसे संपर्क करने के लिए बटन पर क्लिक करके, आपको प्रभु की वापसी का शुभ समाचार मिलेगा, और 2024 में उनका स्वागत करने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें