212 सत्य को स्वीकारने वाले ही परमेश्वर की वाणी सुन सकते हैं

I

जहाँ परमेश्वर का प्रकटन है,

वहाँ सत्य की अभिव्यक्ति है, परमेश्वर की वाणी है।

वही सुन सकते हैं परमेश्वर की वाणी,

वही देख सकते हैं प्रकटन परमेश्वर का, सत्य को जो करते हैं स्वीकार।

नामुमकिन जैसे विचार कर दो दरकिनार।

नामुमकिन जैसे विचारों का मुमकिन होना सम्भव है।

स्वर्ग से ऊँची है परमेश्वर की बुद्धि की उड़ान।

उसके ख़्याल और काम बहुत परे हैं, इंसान के सारे ख़्यालों से।

कोई चीज़ होती है नामुमकिन जितनी,

होता उतना ही ज़्यादा सत्य वहाँ खोज के लिये।

होता जितना परे इंसान की संकल्पना से,

होता है उतना ही समावेश परमेश्वर के सत्य का उसमें।

प्रकट कहीं भी हो वो, परमेश्वर फिर भी परमेश्वर है।

कहाँ हुआ वो प्रकट, उसका सार नहीं बदलता इससे।

दरकिनार करो अपनी धारणाएँ,

ख़ामोश करो दिल को अपने, और पढ़ो इन वचनों को।

गर सत्य की तड़प होगी तुम में, तो ज़ाहिर कर देगा

परमेश्वर अपनी इच्छा और वचन तुम पर,

इच्छा और वचन तुम पर, इच्छा और वचन तुम पर।


II

वही रहता है स्वभाव परमेश्वर का।

जहाँ भी हैं कदम उसके, वहीं है वो मानवता का परमेश्वर।

यीशु परमेश्वर है इस्राएलियों का, एशिया का, यूरोप का, सारे जहाँ का।

परमेश्वर की इच्छा खोजो उसके कथन से,

ढूँढो उसका प्रकटन, अनुसरण करो उसके पदचिन्हों का।

सत्य है, मार्ग है, जीवन है परमेश्वर।

उसके वचन और प्रकटन उसका, रहते हैं साथ-साथ।

स्वभाव और पदचिन्ह उसका, कर दिए जाते हैं इंसानों पर ज़ाहिर सदा।

भाइयो-बहनो, उम्मीद है देख सकते हो,

तुम इन वचनों में प्रकटन परमेश्वर का।

करो अनुसरण उसका एक नए युग में,

नए स्वर्ग में, नई धरती की ओर, किया गया तैयार जिसे,

उन सब की ख़ातिर, परमेश्वर का इंतज़ार है जिनको, इंतज़ार है जिनको।

दरकिनार करो अपनी धारणाएँ,

ख़ामोश करो दिल को अपने, और पढ़ो इन वचनों को।

गर सत्य की तड़प होगी तुम में, तो ज़ाहिर कर देगा

परमेश्वर अपनी इच्छा और वचन तुम पर,

इच्छा और वचन तुम पर, इच्छा और वचन तुम पर।


"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला: 211 अंत के दिनों के मसीह के प्रकटन और कार्य को कैसे जानें

अगला: 213 क्या तुम लोगों ने पवित्र आत्मा को बोलते सुना है?

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

Iसमझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग,सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के लिए...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

Iपूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने,हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर धर्मोपदेश और संगति अंत के दिनों के मसीह—उद्धारकर्ता का प्रकटन और कार्य राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें