556 केवल सत्य का अभ्यास करने वाले ही परमेश्वर द्वारा बचाए जा सकते हैं

1

अगर तुम लोगों को ज़रा-सी भी उम्मीद है,

तो ईश्वर को अतीत याद हो, न हो, तुम्हारे मन में यही होना चाहिए:

"मैं अपना स्वभाव बदलूँगा, ईश्वर को जानूँगा,

शैतान के हाथों फिर बेवकूफ़ न बनूँगा, ईश्वर को शर्मिंदा न करूँगा।"

कोई आशा तुम्हारे लिए है या नहीं, तुम्हें बचाया जाएगा या नहीं,

ये तय होता इससे कि वचन सुनकर सत्य पा सकते हो या नहीं,

सत्य पर अमल कर सकते हो या नहीं, तुम बदल सकते हो या नहीं।

2

अगर तुम्हें सिर्फ मलाल है, मगर जब कुछ करो,

तुम पुराने तरीकों से सोचते, अपनी भ्रष्टता से काम करते;

अगर तुममें समझ न हो, स्थिति बदतर हो रही हो,

तो आशा नहीं तुम्हारे लिए, माने जाओगे निकम्मे।

ईश्वर को, अपनी प्रकृति को जितना जानोगे, खुद को उतना काबू में रखोगे।

अपने अनुभव को समेटते हुए, तुम फिर इस तरह असफल नहीं होगे।

कोई आशा तुम्हारे लिए है या नहीं, तुम्हें बचाया जाएगा या नहीं,

ये तय होता इससे कि वचन सुनकर सत्य पा सकते हो या नहीं,

सत्य पर अमल कर सकते हो या नहीं, तुम बदल सकते हो या नहीं।

3

सभी दोषपूर्ण हैं, सबमें अहंकार, दंभ, अपराध या विद्रोह जैसी भ्रष्टता दिखे।

कोई भ्रष्ट इंसान इनसे बच न सके।

मगर सत्य को समझने पर, तुम्हें इनसे बचना चाहिए,

अतीत से परेशान नहीं होना चाहिए।

डर है, तुम समझकर भी न बदलो,

जानते हुए भी गलत काम करो, और गलत तरीके अपनाओ।

ऐसे लोगों का छुटकारा नामुमकिन है।

कोई आशा तुम्हारे लिए है या नहीं, तुम्हें बचाया जाएगा या नहीं,

ये तय होता इससे कि वचन सुनकर सत्य पा सकते हो या नहीं,

सत्य पर अमल कर सकते हो या नहीं, तुम बदल सकते हो या नहीं।

— "अंत के दिनों के मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'परमेश्वर की सेवा करने के लिए पतरस के मार्ग पर चलना चाहिए' से रूपांतरित

पिछला: 555 तुम्हें सकारात्मक प्रगति की कोशिश करनी चाहिए

अगला: 557 क्या तुम अपनी प्रकृति जानते हो?

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें