343 जो परमेश्वर को नहीं जानते, वे उसका विरोध करते हैं

जो न समझे लक्ष्य ईश-कार्य का, वही करे विरोध ईश्वर का।

जो समझे पर संतुष्ट न करे ईश्वर को, वो है और भी बड़ा ईश-विरोधी।

1

दिनभर बाइबल-पाठ करें कलीसियाई, पर समझें न वो ईश-कार्य को।

कोई न जान पाता ईश्वर को, न ही बन पाता ईश-इच्छा के अनुरूप।

दुष्ट और नाकारा हैं वो लोग, ऊँचाई पर खड़े हो भाषण देते ईश्वर को।

झंडा उसका थामते फिर भी विरोध करते।

आस्था का दावा करते, पर निगलते इंसानियत को।

2

ये आत्मा को निगलने वाले दुष्ट, रोकते सही मार्ग पर चलने से लोगों को।

ये बाधाएँ हैं जो रोकें ईश्वर के खोजी को।

ये दिखते "सबल देह" के पर कैसे जानें अनुयायी इनके,

ये मसीह-विरोधी, ईश-विरोधी शैतान हैं

जो निगल जाएँ इंसानी आत्माओं को?

जो न जानें ईश्वर को, जो मानें पर न जानें ईश्वर को,

जो करें अनुसरण, पर आज्ञा न मानें उसकी,

जो लें आनंद उसके अनुग्रह का, पर दें न गवाही उसकी,

हैं वो सारे ईश्वर विरोधी।

3

जो ईश्वर की मौजूदगी में बड़ा समझते ख़ुद को, बेहद अधम हैं वो लोग,

दीन बनें जो उसके आगे, असली इज़्ज़तदार हैं वो लोग।

जो सोचें, वे जानें ईश-कार्य को, और कर सकें इसका ऐलान दिखावा करके,

अज्ञानी, अभिमानी, दंभी हैं वो लोग; उनमें गवाही नहीं ईश्वर की।

जो न जानें ईश्वर को, जो मानें पर न जानें ईश्वर को,

जो करें अनुसरण, पर आज्ञा न मानें उसकी,

जो लें आनंद उसके अनुग्रह का, पर दें न गवाही उसकी,

हैं वो सारे ईश्वर विरोधी।

जो न समझें ईश-इच्छा को, जो समझें पर अमल में न लाएँ सत्य को,

जो ईश-वचनों को खाए-पिएँ, फिर भी विरोध करें।

हैं वो ईश्वर-विरोधी।

जिनमें हैं धारणाएँ देहधारी ईश्वर के प्रति, और जिनका मन है ईश-विद्रोही,

जो न दे पाएँ गवाही, जो न जानें ईश्वर को,

जो करें उसकी आलोचना, हैं वो ईश्वर-विरोधी।

जो न जानें ईश्वर को, जो मानें पर न जानें ईश्वर को,

जो करें अनुसरण, पर आज्ञा न मानें उसकी,

जो लें आनंद उसके अनुग्रह का, पर दें न गवाही उसकी,

हैं वो सारे ईश्वर विरोधी।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर को न जानने वाले सभी लोग परमेश्वर का विरोध करते हैं' से रूपांतरित

पिछला: 342 परमेश्वर को नफ़रत है इंसानों के आपसी जज़्बात से

अगला: 344 जो परमेश्वर को धारणाओं से मापता है वो उसका प्रतिरोध करता है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें