342 परमेश्वर को नफ़रत है इंसानों के आपसी जज़्बात से

1

लोगों ने आपसी जज़्बात के कारण,

परमेश्वर को किनारे कर दिया है,

इंसान ने उसे भुला दिया है,

और अपने कथित ज़मीर को उठा लेने का मौका हासिल कर लिया है।

आपसी जज़्बात के कारण, परमेश्वर की ताड़ना से थक चुका है इंसान,

कहता उसे अन्यायी और बेपरवाह इंसां के जज़्बात से।

क्या ईश्वर का है कोई संबंधी धरा पर?

परमेश्वर में नहीं हैं जज़्बात, वो लोगों को मौका नहीं देता

अपने जज़्बात दिखाने का, जिससे है नफरत उसे।

परमेश्वर में नहीं हैं जज़्बात।

2

परमेश्वर के अलावा और कौन उसकी योजना के लिए दिन-रात काम करे?

क्या इंसान उससे तुलना कर सके, उसके अनुरूप हो सके?

कैसे हो सकता सृष्टिकर्ता, परमेश्वर उस इंसान जैसा, जो है सृष्टि उसी की?

कैसे ईश्वर सदा धरती पर इंसान संग रह सके?

इंसान के साथ रहने को सहमत हुआ था कभी।

तबसे इंसान सदा रहा उसकी सुरक्षा में।

क्या इंसान कभी खुद को उसकी देखभाल से अलग कर सके?

भले इंसान ने न की कभी परमेश्वर की परवाह,

लेकिन अंधेरे में कौन जीता रह सकता?

इंसान जो आज तक है जिंदा, है ये बस ईश्वर की कृपा।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'संपूर्ण ब्रह्मांड के लिए परमेश्वर के वचन' के 'अध्याय 28' से रूपांतरित

पिछला: 340 परमेश्वर तुम पर जो कार्य करता है, वह अत्यंत मूल्यवान है

अगला: 343 जो परमेश्वर को नहीं जानते, वे उसका विरोध करते हैं

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें