799 अंतिम परिणाम जिसे हासिल करना परमेश्वर के कार्य का लक्ष्य है

1

उसके इतने सारे कार्यों में,

सच्चे तजुर्बे वाले हर किसी को, अनुभव होता श्रद्धा और भय का,

जो है प्रशंसा से बढ़कर।

लोगों ने देखा है अनुशासन व न्याय के कार्य में परमेश्वर का स्वभाव,

तभी तो है उनके दिलों में आदर।

परमेश्वर है आज्ञापालन और श्रद्धा योग्य,

क्योंकि उसकी सत्ता व स्वभाव है जीवों से हटकर, है जीवों से बहुत ऊपर।

इंसान नहीं केवल परमेश्वर है श्रद्धा और समर्पण के योग्य।

2

उसके कार्य का अनुभव है जिन्हें, उसका ज्ञान है जिन्हें,

उसके प्रति श्रद्धा है उनमें।

परमेश्वर के विरुद्ध है जिनकी धारणा,

जो नहीं मानते उसको परमेश्वर, या नहीं रखते श्रद्धा उसपर,

जीते नहीं गए हैं, हालांकि करते हैं उसका अनुसरण।

स्वभाव से हैं वे अवज्ञाकारी।

3

बनाने वाले का आदर करें सभी निर्मित जीव,

कर सकें सभी परमेश्वर की आराधना और

पूरे दिल से उसकी प्रभुता को हों समर्पित,

परमेश्वर का कार्य करना चाहता है इसे ही हासिल।

उसकी हस्ती, उसका स्वभाव, जीवों से अलग है, ऊपर है।

श्रद्धा और समर्पण के काबिल, केवल परमेश्वर है।

और अंत में इसे ही हासिल करेगा काम उसका।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर का कार्य और मनुष्य का कार्य' से रूपांतरित

पिछला: 798 परमेश्वर को जानने से ही सच्ची आस्था आती है

अगला: 800 परमेश्वर को जानकर ही कोई उसका भय मान सकता है और बुराई से दूर रह सकता है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें