800 परमेश्वर को जानकर ही कोई उसका भय मान सकता है और बुराई से दूर रह सकता है

1

बुराई त्यागने को, तुम्हें भय ईश्वर का मानना होगा।

भय प्राप्त करने को, तुम्हें ईश्वर को जानना होगा।

ईश्वर को जानने को तुम्हें अभ्यास वचनों का करना होगा,

उसके अनुशासन और न्याय को महसूस करना होगा।

ईश्वर का भय और बुराई का त्याग असंख्य संबंध के धागों से,

जुड़ा है परमेश्वर के ज्ञान से।

केवल ईश्वर को जो जान सके वही उसका भय करे और बुराई से दूर रहे।

2

ईश्वर के वचनों का अभ्यास करने को,

तुम्हें परमेश्वर और उसके वचनों के रूबरू होना होगा।

परिवेश सजाने की ईश्वर से करो याचना

ताकि तुम उसके वचनों का अनुभव करो।

ईश्वर का भय और बुराई का त्याग असंख्य संबंध के धागों से,

जुड़ा है परमेश्वर के ज्ञान से।

केवल ईश्वर को जो जान सके वही उसका भय करे और बुराई से दूर रहे।

3

ईश्वर के वचनों के रूबरू होने को,

तुम्हें होगा रखना एक सच्चा दिल और इच्छा सच को स्वीकारने की।

सच्चा जीव होने की अभिलाषा की इसमें आवश्यकता है,

सहने की और बुराई को त्यागने की इच्छा की।

ईश्वर का भय और बुराई का त्याग असंख्य संबंध के धागों से,

जुड़ा है परमेश्वर के ज्ञान से।

केवल ईश्वर को जो जान सके वही उसका भय करे।

ईश्वर का भय और बुराई का त्याग असंख्य संबंध के धागों से,

जुड़ा है परमेश्वर के ज्ञान से।

केवल ईश्वर को जो जान सके वही उसका भय करे और बुराई से दूर रहे।

4

आगे बढ़ो, ईश्वर के क़रीब, तुम्हारे अस्तित्व का मूल्य बढ़ जाएगा।

और पवित्र तुम्हारा दिल बनेगा, जीवन तुम्हारा सार्थक और उज्ज्वल होगा।

ईश्वर का भय और बुराई का त्याग असंख्य संबंध के धागों से,

जुड़ा है परमेश्वर के ज्ञान से।

केवल ईश्वर को जो जान सके वही उसका भय करे।

ईश्वर का भय और बुराई का त्याग असंख्य संबंध के धागों से,

जुड़ा है परमेश्वर के ज्ञान से।

केवल ईश्वर को जो जान सके वही उसका भय करे और बुराई से दूर रहे।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर को जानना परमेश्वर का भय मानने और बुराई से दूर रहने का मार्ग है' से रूपांतरित

पिछला: 799 अंतिम परिणाम जिसे हासिल करना परमेश्वर के कार्य का लक्ष्य है

अगला: 801 केवल ईश्वर को जानकर ही इंसान ईश्वर से प्रेम कर सकता है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें