889 चूँकि परमेश्वर मनुष्यों को बचाता है, वह उन्हें पूर्ण रूप से बचायेगा

1

चूँकि मानव को परमेश्वर ने बनाया, उसकी रहनुमाई वो करेगा;

चूँकि वो उसे बचाता है, वो उसे पूरी तरह हासिल करेगा और बचायेगा;

चूँकि वो करता है रहनुमाई मानव की, उसे सही मंज़िल तक भी वो लाएगा।

चूँकि मानवों को सृजा था परमेश्वर ने, और उनका प्रबंधन भी वही करता है,

उनके भविष्य और नियति की ज़िम्मेदारी भी लेनी होगी उसे अपने कांधों पे।

यही है वो कार्य जो सृष्टिकर्ता करता है।

हाँ, सच है कि मानवजाति के भविष्य की आशा को दूर करके ही

विजय कार्य हासिल किया जाता है,

फिर भी परमेश्वर ने बनाई जो मंज़िल मनुष्यों के लिए,

उस तक उन्हें पहुंचाया जायेगा, अंत में।

चूँकि परमेश्वर मानव को ढालता है, इसलिए तो उसके पास एक मंज़िल है,

और एक भविष्य जो सुनिश्चित है, और एक भविष्य जो सुनिश्चित है।

2

बजाय उस मंज़िल के जो उसे प्रदान की जानी है,

जिसकी इच्छा और अनुसरण मनुष्य करता है, वे हैं वो चाहतें,

जो होती हैं देह की असंयत लालसाओं को पाने की कोशिश में।

दूसरी ओर, परमेश्वर ने तैयार किया है मनुष्य के लिए जो,

वे आशीषें और वायदे हैं जो मिलेंगे मनुष्य को जब शुद्ध हो जायेगा वो।

दुनिया की सृष्टि के बाद मानव के लिए, परमेश्वर ने की थी इसकी तैयारी।

उन आशीषों और वायदों पर नहीं पड़ी है मनुष्य की देह या,

उसके चुनाव, कल्पना और धारणा की काली छाया।

मंज़िल की तैयारी नहीं की गयी है किसी एक इंसान के लिए,

पर है ये विश्राम का स्थान पूरी मानवजाति के लिए।

यही है सबसे उपयुक्त मंज़िल, है सबसे उपयुक्त मंज़िल मानवजाति के लिए,

है सबसे उपयुक्त मंज़िल मानवजाति के लिए।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'मनुष्य के सामान्य जीवन को बहाल करना और उसे एक अद्भुत मंज़िल पर ले जाना' से रूपांतरित

पिछला: 888 इंसान के लिए ईश्वर के प्यार की कोई सीमा नहीं

अगला: 890 मसीह का सार प्रेम है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें