888 इंसान के लिए ईश्वर के प्यार की कोई सीमा नहीं

1

ईश-कार्य का अनुभव करने पर, दुख से गुज़रना होगा।

ईश्वर के अच्छे इरादे हैं उसमें।

तुम देखो कि ईश्वर ने किया जो भी है वो लोगों को बचाने को,

और पूरी तरह उसका प्यार है।

चाहे तुम लोग देखो सब उस बुद्धि के नज़रिये से जो है ईश्वर के कार्य में,

ईश्वर के कार्य के चरणों और तरीकों के नज़रिये से,

या कार्य की अवधि के नज़रिये से,

या उसकी सटीक व्यवस्था और योजनाओं के नज़रिए से, सब में उसका प्यार है।

ईश्वर के लोगों से व्यवहार में लापरवाही नहीं,

उसकी योजनाएं हैं सटीक; उत्तरोत्तर उनको लेता है।

कब, कहाँ, उसका लहजा, उसके बोलने का जो तरीका है,

जो प्रयास वो करता है, ये सब उसका प्यार दिखाता है।

इंसान के लिए ईश्वर के प्यार की कोई सीमा नहीं।

2

लोग अपने बच्चों से प्यार करते हैं, उन्होंने बहुत प्रयास किये हैं,

ताकि बच्चे सही राह पे चल सकें।

जब बच्चों की कमज़ोरियों का पता चलता है,

चिंता करते हैं यदि वो बोलें नरमी से, तो उनके बच्चे ना सुनेंगे, ना बदलेंगे।

वो चिंता करते हैं यदि बोले वो सख्ती से,

तो बच्चों के आत्म-सम्मान को चोट पहुंचेगी।

इससे उनको चिंता होती है कि बच्चे ये सब सह नहीं पाएंगे।

ये सब किया जाता है प्यार से; इसमें बहुत प्रयास लगता है।

ईश्वर के लोगों से व्यवहार में लापरवाही नहीं,

उसकी योजनाएं हैं सटीक; उत्तरोत्तर उनको लेता है।

कब, कहाँ, उसका लहजा, उसके बोलने का जो तरीका है,

जो प्रयास वो करता है, ये सब उसका प्यार दिखाता है।

इंसान के लिए ईश्वर के प्यार की कोई सीमा नहीं।

3

तुम सब खुद भी बेटे-बेटी हो, किया होगा अनुभव तुमने माँ-बाप का प्यार।

प्यार सिर्फ नम्रता नहीं, सिर्फ ध्यान रखना ही नहीं;

और भी ज़्यादा, इसमें है ताड़ना।

सब कुछ जो ईश्वर इंसान के लिए करता है वो इंसान के प्रेमवश करता है

और प्यार की पूर्व शर्त के तहत,

इसी वजह से वो पूरी कोशिश करता है

इस भ्रष्ट इंसान का करने उद्धार, उद्धार, उद्धार!

ईश्वर के लोगों से व्यवहार में लापरवाही नहीं,

उसकी योजनाएं हैं सटीक; उत्तरोत्तर उनको लेता है।

कब, कहाँ, उसका लहजा, उसके बोलने का जो तरीका है,

जो प्रयास वो करता है, ये सब उसका प्यार दिखाता है।

इंसान के लिए ईश्वर के प्यार की कोई सीमा नहीं।

— "अंत के दिनों के मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'क्या तुम मनुष्यजाति के प्रति परमेश्वर का प्रेम जानते हो?' से रूपांतरित

पिछला: 887 परमेश्वर ख़ामोशी से प्रबंध करता है हर एक का

अगला: 889 चूँकि परमेश्वर मनुष्यों को बचाता है, वह उन्हें पूर्ण रूप से बचायेगा

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें