263 न्याय और ताड़ना में देखा मैंने प्रेम परमेश्वर का

1

हे परमेश्वर!

भले ही कई इम्तहानों से होकर गुज़री हूँ मैं,

और मौत को करीब से देखा है मैंने,

इन सबसे जान पायी हूँ तुझे अच्छी तरह से,

और परम मुक्ति पायी है मैंने।

अगर दूर हो गयी मुझसे तेरी ताड़ना,

तेरा न्याय और तेरा अनुशासन,

तो अंधकार में जियूंगी मैं,

शैतान के अधिकार क्षेत्र में रहूँगी मैं।

2

क्या लाभ हैं इन्सान की देह के?

गर तेरी ताड़ना छोड़ जाये मुझे,

तो होगा ये ऐसा मानो,

तेरे आत्मा ने त्याग दिया मुझे,

मानो तू नहीं अब मेरे साथ में।

गर ले ले तू मेरी आज़ादी,

दे दे मुझे कोई बीमारी,

तो भी जी सकती हूँ मैं ये ज़िन्दगी।

लेकिन अगर तेरा न्याय मुझे छोड़ जाये,

तो ज़िन्दा न रह पाऊँगी मैं।

हे परमेश्वर! मैं करूँ अनुनय तुझसे।

न दूर कर मेरे सुकून मुझसे;

सुकून के कुछ वचन भी काफी हैं।

मैंने आनंद लिया है तेरे प्रेम का,

तुझसे अलग हो नहीं सकती मैं,

तो फिर कैसे तुझसे प्रेम नहीं कर सकती मैं?

3

गर मैं होती तेरी ताड़ना के बिन,

तो तेरा प्रेम दूर हो जाता मुझसे।

शब्दों में बयाँ नहीं कर सकती मैं,

यह प्रेम बहुत गहरा है मेरे लिए।

तेरे प्रेम के बिना, शैतान के अधीन हो जाती मैं,

तेरे महिमामय मुखड़े को देख न पाती मैं।

ऐसे कैसे जी पाती मैं?

नहीं सह पाती इस अँधेरे जीवन को।

तेरा मेरे साथ होना, है तुझे देखने जैसा,

तो कैसे तुझे कभी छोड़ सकती हूँ मैं?

4

तेरे प्रेम में, दुःख के बहुत आँसू बहाए मैंने।

फिर भी अधिक गहराई है ऐसे जीवन में।

मुझे सम्पन्न बनाता,

बदलने में मदद करता है ये,

पाने देता है वो सत्य जो सभी जीवों में होना चाहिए,

पाने देता है वो सत्य जो सभी जीवों में होना चाहिए,

हे परमेश्वर! मैं करूँ अनुनय तुझसे।

न दूर कर मेरे सुकून मुझसे;

सुकून के कुछ वचन भी काफी हैं।

मैंने आनंद लिया है तेरे प्रेम का,

तुझसे अलग हो नहीं सकती मैं,

तो फिर कैसे तुझसे प्रेम नहीं कर सकती मैं?

पिछला: 262 मैं इतना कुछ पाता हूँ परमेश्वर की ताड़ना और न्याय से

अगला: 264 परमेश्वर की ताड़ना और न्याय न होते, तो मेरा कोई अस्तित्व न होता

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें