264 परमेश्वर की ताड़ना और न्याय के बिना नहीं रह सकती मैं

1

ईश्वर का न्याय न होता,

तो मैं कभी उससे प्यार न करती,

अब भी शैतान के अधिकार-क्षेत्र में,

उसके वश और हुकूमत में जीती।

कभी एक असल इंसान न बन पाती,

क्योंकि ईश्वर के दिल को संतुष्ट न कर पाती,

कभी खुद को पूरी तरह उसे न दे पाती।


ईश्वर मुझे आशीष न भी दे, खुशी या शांति न हो,

तो भी लगे जैसे मेरे अंदर आग जले,

कोई सुकून न हो, फिर भी खुश हूँ मैं।

क्योंकि ईश्वर की ताड़ना

और न्याय हमेशा मेरे साथ रहते,

इसलिए मैं उसका धार्मिक स्वभाव देख पाती।

जीवन का मूल्य यही है, अर्थ यही है।


ईश्वर की ताड़ना और न्याय ने ही बचाया मुझे।

ईश्वर की ताड़ना और न्याय

के बिना नहीं जी सकती मैं।


2

भले ही उसकी देखभाल और सुरक्षा

अब बन गए हैं निर्मम न्याय,

शाप और प्रहार, फिर भी मुझे इनसे आनंद मिले,

वे मुझे ईश्वर के पास लाएँ, मुझे और

उसके लिए मेरे प्रेम को शुद्ध करें,

जिससे एक प्राणी का कर्तव्य निभा सकूँ मैं,

शैतान के प्रभाव से निकलूँ,

अब उसकी सेवा न करूँ।


मेरे सांसारिक जीवन पर शैतान राज करे।

ईश-न्याय की देखभाल के बिना,

मैं शैतान के अधिकार-क्षेत्र में जीती,

कभी सार्थक जीवन न जीती।

ईश-न्याय अगर सदा मेरे साथ रहे,

तभी मैं उसके द्वारा शुद्ध की जाऊँगी।

उसके कठोर वचन, धार्मिक स्वभाव

मुझे रोशनी में लाते, मैं ईश-आशीष पाती।


ईश्वर की ताड़ना और न्याय ने ही बचाया मुझे।

ईश्वर की ताड़ना और न्याय

के बिना नहीं जी सकती मैं।


3

शैतान से मुक्ति पाना, शुद्ध हो पाना,

ईश्वर के प्रभुत्व में जीना, प्रभुत्व में जीना,

यही सबसे बड़ा आशीष है आज मेरे जीवन में।


ईश्वर की ताड़ना और न्याय ने ही बचाया मुझे।

ईश्वर की ताड़ना और न्याय

के बिना नहीं जी सकती मैं।

पिछला: 263 न्याय और ताड़ना में देखा मैंने प्रेम परमेश्वर का

अगला: 265 मैं परमेश्वर के न्याय और ताड़ना के साथ अपना सारा जीवन बिता दूंगा

परमेश्वर का आशीष आपके पास आएगा! हमसे संपर्क करने के लिए बटन पर क्लिक करके, आपको प्रभु की वापसी का शुभ समाचार मिलेगा, और 2024 में उनका स्वागत करने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें