162 प्रकाश पथ की ओर दौड़ना

1 दुनिया की दुर्दशा देखिए, शैतान ने इंसान को कितनी बेरहमी से भ्रष्ट किया है। पीड़ा और अंधकार में लड़खड़ाते, संघर्ष करते हुए, इंसान जीवन के प्रकाश पथ को कैसे पा सकता है? सौभाग्य से सर्वशक्तिमान परमेश्वर ने सत्य व्यक्त किया है, उसकी वाणी को सुनकर, मैं उसकी ओर वापस मुड़ा हूँ। मैं अंत के दिनों के मसीह के प्रकटन और कार्य का गवाह हूँ, फिर भी मैं चीनी सरकार के उत्पीड़न और उसके द्वारा पीछा किए जाने का शिकार हूँ। मैं अक्सर अंधेरी रातों में प्रार्थना करता हूँ, परमेश्वर के वचन मुझे विश्वास और शक्ति देते हैं। परमेश्वर इंसान को बचाने के लिए बहुत अपमान सहता है, मसीह के साथ यातना सहना बहुत सम्मान की बात है। मैं परमेश्वर की वाणी को सुनकर धन्य हूँ। यदि मैं सत्य प्राप्त नहीं कर पाया, तो यह जीवन पछतावे के अलावा कुछ न होगा। भले ही आगे कितने भी खतरे और कठिनाइयाँ आएँ, मैं अंत तक मसीह का अनुसरण करने के लिए हर चीज़ का त्याग करता हूँ।

2 अंधेरी और भयानक चीनी जेल में, यातना सहते हुए, मैं जीवन और मृत्यु के बीच झूलता रहा। निराशा के समय, परमेश्वर के वचनों ने मुझे दिलासा और हौसला दिया। परमेश्वर के प्यार को महसूस करते हुए, अविरल आँसू बह रहे थे। मैंने परमेश्वर की निरंतर देखभाल और सुरक्षा को देखा, मुझे उसके वचनों के अधिकार और सामर्थ्य का पता था। शैतान की जेल नरक की तरह थी, मैं पीड़ित था, लेकिन मैं परमेश्वर के और करीब आ गया। उत्पीड़न, क्लेश, परीक्षणों के ज़रिये, मैंने अंततः चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के शैतानी चेहरे को देख लिया। शैतानों का सरगना सत्ता में है, वह झूठ बोलता है, धोखा देता है, वह लोगों को अनैतिकता में फंसा लेता है। अंत के दिनों के मसीह ने प्रकट होकर कार्य किया है, वह इंसान के लिये प्रकाश और सत्य लाया है। जिनके अंदर दिल और आत्मा है, उन्हें सत्य और धार्मिकता का चयन करना चाहिए, भले ही इसका मतलब अपने जीवन त्याग करना हो। मज़बूती से यह विश्वास करते हुए कि मसीह सत्य, मार्ग और जीवन है, मैं प्रकाश पथ की ओर दौड़ता हूँ।

पिछला: 161 ईसाइयों के हृदयों में वचन

अगला: 163 युगों-युगों के संत ज़िंदा किए गए हैं

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें