231 बाइबल को ठीक से समझो

1

बाइबल हज़ारों साल पुरानी है। लोग इस हद तक बाइबल को ईश्वर मानते हैं:

अंत के दिनों में इसने ईश्वर की जगह ले ली है। ईश्वर को ये बात नापसंद है।

फ़ुर्सत के वक्त, उसे बाइबल की कथा और उसका मूल समझाना पड़ा।

वरना अभी भी ये लोगों के दिलों में ईश्वर की जगह ले लेती,

वे इससे ईश्वर को आंकते, उसकी निंदा करते।

ईश्वर तुम्हें यह सच बताना चाहता है,

कोई सिद्धांत या तथ्य उसके आज के

काम और वचनों की जगह नहीं ले सकता।

कोई चीज़ ईश्वर की जगह नहीं ले सकती।

2

इंसान कभी ईश्वर के सामने नहीं आ सकता

बिना जाल तोड़े बाइबल का।

ईश्वर की जगह लेने वाली हर चीज़ दिल से मिटानी होगी।

इस तरह ईश्वर संतुष्ट होगा।

हालाँकि ईश्वर ने यहाँ सिर्फ़ बाइबल समझाई है,

मगर न भूलो ऐसी अनेक चीज़ें हैं

जिन्हें इंसान गलती से पूजता और प्यार करता है

उसे नहीं पूजता जो सचमुच ईश्वर से आता है।

ईश्वर तुम्हें यह सच बताना चाहता है,

कोई सिद्धांत या तथ्य उसके आज के

काम और वचनों की जगह नहीं ले सकता।

कोई चीज़ ईश्वर की जगह नहीं ले सकती।

3

बाइबल की मिसाल देकर याद दिलाता ईश्वर,

ईश्वर में आस्था रखते, उसके वचन स्वीकारते समय,

कहीं गलत राह न चुन ले इंसान,

फिर से उलझन या ख़राब स्थिति में न गिरे इंसान।

ईश्वर तुम्हें यह सच बताना चाहता है,

कोई सिद्धांत या तथ्य उसके आज के

काम और वचनों की जगह नहीं ले सकता।

कोई चीज़ ईश्वर की जगह नहीं ले सकती,

कोई चीज़ ईश्वर की जगह नहीं ले सकती।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'कलीसियाओं में चलने के दौरान मसीह द्वारा बोले गए वचनों' की परिचय से रूपांतरित

पिछला: 230 बाइबल लोगों को नए युग में कैसे ला सकती है?

अगला: 232 परमेश्वर ने अंत के दिनों में अन्य राष्ट्रों में ज़्यादा बड़ा और ज़्यादा नया काम किया है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें