246 केवल सत्य की तलाश ही जीवन ला सकती है

1

अतीत में भूलें करके मैंने सबक सीखे हैं।

पिछली गलतियों को मैं सही करना चाहता हूँ।

फिर भी मैं सत्य की तलाश जारी रखूँगा,

भले ही मुझे बाधाएँ और असफलताएँ मिलें।

परीक्षणों और परिशोधन से गुज़रकर, मैं परमेश्वर का प्रेम चखता हूँ,

और इस तरह परमेश्वर के लिए मेरा प्रेम अधिक निर्मल हो जाता है।

परमेश्वर! मैं समीप से तुम्हारा अनुसरण करना चाहता हूँ।

जीवन को पाने के लिए, मैं सत्य की तलाश में रुकूँगा नहीं।

तुम्हारे मार्ग और परामर्श का मैं पालन करूँगा,

तुम्हारे लिए एक ज़बरदस्त गवाही देते हुए।

सत्य और जीवन को पाने और स्वभावों को बदलने के लिए,

हमें न्याय और ताड़ना को स्वीकार करना ही होगा।

ईमानदार बनने के लिए, अपने कर्तव्य में गड़बड़ी न हो इसलिए,

हमें काट-छाँट को सहर्ष स्वीकार करना ही होगा।

सच्चाई की वास्तविकता में प्रवेश, और परमेश्वर की सराहना पाने के लिए,

हमें हर बात में सच्चाई का अभ्यास करना होगा।

परिपूर्ण बनाए जाने और मसीह से अनुकूल होने के लिए,

हमें परीक्षणों की बहुत पीड़ा से गुज़रना ही होगा।

2

परमेश्वर के न्याय द्वारा मेरी भ्रष्टता साफ होती है।

ईमानदारी, कर्तव्य मुझे और इंसान की तरह बनाते हैं।

मैं परमेश्वर से प्रेम करना, परीक्षण से गुजरना चाहता हूँ,

मेरा जीवन स्वभाव बदल गया है,

मैं परमेश्वर के प्रेम का बहुत अनुभव किया है।

मैं परमेश्वर से प्रेम करूँगा, उसके लिए गवाही दूँगा।

परमेश्वर! मैं समीप से तुम्हारा अनुसरण करना चाहता हूँ।

जीवन को पाने के लिए, मैं सत्य की तलाश में रुकूँगा नहीं।

मुझे और भी न्याय चाहिए, परिशुद्ध होने के लिए।

सत्य को पाना, बचाया जाना मेरी शान है।

सत्य और जीवन को पाने और स्वभावों को बदलने के लिए,

हमें न्याय और ताड़ना को स्वीकार करना ही होगा।

ईमानदार बनने के लिए, अपने कर्तव्य में गड़बड़ी न हो इसलिए,

हमें काट-छाँट को सहर्ष स्वीकार करना ही होगा।

सच्चाई की वास्तविकता में प्रवेश, और परमेश्वर की सराहना पाने के लिए,

हमें हर बात में सच्चाई का अभ्यास करना होगा।

परिपूर्ण बनाए जाने और मसीह से अनुकूल होने के लिए,

हमें परीक्षणों की बहुत पीड़ा से गुज़रना ही होगा।

पिछला: 245 मैं आजीवन केवल परमेश्वर से प्रेम करना चाहती हूँ

अगला: 247 हे परमेश्वर! मेरा दिल पहले से ही तेरा है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें