634 ताड़ना मिलने और न्याय किए जाने के कारण तुम लोगों को सुरक्षा दी जाती है

1

आत्मज्ञान नहीं तुममें पौलुस का,

ताड़ना की तुम्हें ज़रूरत सदा;

बिना न्याय के तुम न जागते।

ताड़ना अच्छी है तुम्हारे जीवन के लिए।

जब हो ज़रूरी, तो तथ्यों के आगमन की

ताड़ना होनी चाहिए, तभी तुम लोग होगे समर्पित।

बिना ताड़ना और शाप के,

तुम अपना सिर न झुकाओगे,

न तैयार होगे समर्पण को।

जो तथ्य नहीं तो, असर भी नहीं।


सुरक्षा दी जाती है आज तुम्हें

क्योंकि मिले ताड़ना, न्याय और शाप तुम्हें।

सुरक्षा दी जाती है आज तुम्हें

क्योंकि इतना सहा तुमने।

वरना तुम पतित हो जाते।

ईश्वर तुम्हें मुश्किलें न देना चाहे,

मानव प्रकृति मजबूती से समाई है।

मानव स्वभाव बदलने को ऐसा ही करना होगा।

मानव स्वभाव बदलने को ऐसा ही करना होगा।


2

तुम हो बेकार, बड़े नीच।

न्याय और ताड़ना के बिना,

तुम्हें जीतना मुश्किल होगा,

तुम्हारी अधार्मिकता रोकी न जा सकेगी।

पुरानी प्रकृति तुममें गहरी समाई है।

जो सिंहासन पर बिठाया जाए तुम्हें,

तो न जानोगे स्वर्ग की ऊंचाई,

न धरती की गहराई, न ये कि जाना कहाँ है।

तुम कहाँ से हो, ये भी न जानते,

तो विधाता को कैसे जानोगे?

समय से मिलने वाले आज के न्याय के बिना,

तुम्हारा अंतिम दिन पहले ही

आ चुका होता, आ चुका होता।


सुरक्षा दी जाती है आज तुम्हें

क्योंकि मिले ताड़ना, न्याय और शाप तुम्हें।

सुरक्षा दी जाती है आज तुम्हें

क्योंकि इतना सहा तुमने।

वरना तुम पतित हो जाते।

ईश्वर तुम्हें मुश्किलें न देना चाहे,

मानव प्रकृति मजबूती से समाई है।

मानव स्वभाव बदलने को ऐसा ही करना होगा।

मानव स्वभाव बदलने को ऐसा ही करना होगा।


3

समय पर मिलने वाली इस ताड़ना के बिना,

तुम्हारी किस्मत होती खतरे में,

कौन जाने तुम कितने अहंकारी होते कितने पतित होते।

तुम खुद पर काबू और आत्म-चिंतन नहीं कर पाते।

न्याय लाया है तुम लोगों को आज तक,

और बनाए रखता है अस्तित्व तुम्हारा।

बेहतर होगा कि तुम आज की

न्याय और ताड़ना स्वीकार करो।

समर्पण के अलावा तुम्हारे पास

और रास्ता ही है क्या? और रास्ता ही है क्या?


सुरक्षा दी जाती है आज तुम्हें

क्योंकि मिले ताड़ना, न्याय और शाप तुम्हें।

सुरक्षा दी जाती है आज तुम्हें

क्योंकि इतना सहा तुमने।

वरना तुम पतित हो जाते।

ईश्वर तुम्हें मुश्किलें न देना चाहे,

मानव प्रकृति मजबूती से समाई है।

मानव स्वभाव बदलने को ऐसा ही करना होगा।


—वचन, खंड 1, परमेश्वर का प्रकटन और कार्य, अभ्यास (6) से रूपांतरित

पिछला: 633 परमेश्वर का न्याय है प्यार

अगला: 635 शैतान के प्रभाव को दूर करने के लिए परमेश्वर के न्याय का अनुभव करो

परमेश्वर का आशीष आपके पास आएगा! हमसे संपर्क करने के लिए बटन पर क्लिक करके, आपको प्रभु की वापसी का शुभ समाचार मिलेगा, और 2024 में उनका स्वागत करने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

परमेश्वर का प्रकटन और कार्य परमेश्वर को जानने के बारे में अंत के दिनों के मसीह के प्रवचन सत्य के अनुसरण के बारे में I न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवात्मक गवाहियाँ मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवात्मक गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें