634 तुम संरक्षित हो, क्योंकि तुमने ताड़ना और न्याय का सामना किया है

1 आज तुम लोगों को इसलिए सुरक्षा दी जाती है क्योंकि तुम लोगों को दंडित किया जाता है, शाप दिया जाता है, तुम लोगों कान्याय किया जाता है। क्योंकि तुम लोगों ने काफी कष्ट उठाया है इसलिए तुम्हें संरक्षण दिया जाता है। नहीं तो, तुम लोग बहुत समय पहले ही दुराचार में गिर गए होते। मैं जानबूझ कर तुम लोगों के लिए चीज़ों को मुश्किल नहीं बनाता हूँ—मनुष्य की प्रकृति कसकर घिरी हुई है, और मनुष्य केस्वभाव को बदलने का यही तरीका है। आज, तुम लोगों के पास यहाँ तक कि पौलुस की समझदारी या आत्म-जागरूकता भी नहीं है, और न ही तुम लोगों के पास उसका अंतःकरण है। तुम लोगों की आत्माओं को जगाने के लिए तुम लोगों पर हमेशा दबाव डालना होगा, और तुम लोगों को हमेशा ताड़ना देनी होगी और तुम लोगों का न्याय करना होगा। ताड़ना और न्याय ही वह चीज़ हैं जो तुम लोगों के जीवन के लिए सर्वोत्तम हैं। और जब आवश्यक हो, तो तथ्यों के आगमन द्वारा भी अवश्य ताड़ना होनी चाहिए, केवल तभी तुम लोग पूरी तरह से समर्पण करोगे।

2 तुम लोगों की प्रकृतियाँ ऐसी हैं कि ताड़ना और शाप के बिना तुम लोग अपने सिरों को झुकाने के अनिच्छुक होगे, और समर्पण करने के अनिच्छुक होगे। तुम लोगों की आँखों के सामने तथ्यों के बिना, कोई प्रभाव नहीं होगा। तुम लोगो चरित्र में बहुत नीच और बेकार हो। ताड़ना और न्याय के बिना, तुम लोगों पर विजय प्राप्त करना कठिन होगा, और तुम लोगों की अधार्मिकता और अवज्ञा को दबाना मुश्किल होगा। तुम लोगों का पुराना स्वभाव बहुत गहरी जड़ें जमाए हुए है। यदि तुम लोगों को सिंहासन पर बिठा दिया गया होता, तो तुम लोगों को स्वर्ग की ऊँचाई और पृथ्वी की गहराई के बारे में कोई अंदाज़ न होता, तुम लोग किस ओर जा रहे हो इसके बारे में तो बिल्कुल भी अंदाज़ नहीं होता। तुम लोगों को यहाँ तक कि यह भी नहीं पता कि तुम सब कहाँ से आए हो, तो तुम लोग सृष्टिकर्ता को कैसे जान सकते हो?

3 आज की समयोचित ताड़ना और शाप के बिना तुम लोगों के अंतिम दिन बहुत पहले आ चुके होते। तुम लोगों के भाग्य के बारे में तो कुछ कहना ही नहीं—क्या यह और भी अधिक खतरे में नहीं है? इस समयोजित ताड़ना और न्याय के बिना, कौन जाने कि तुम लोग कितने घमंडी हो गए होते, और कौन जाने तुम लोग कितने पथभ्रष्ट हो जाते। तुम लोगों के पास स्वयं को नियंत्रित करने और आत्म-चिंतन करने की कोई योग्यता नहीं है। इस ताड़ना और न्याय ने तुम लोगों को आज के दिन तक पहुँचाया है, और इसने तुम लोगों के अस्तित्व को संरक्षित रखा है। क्या तुम लोगों को आज की ताड़ना और न्याय को स्वीकार करने में बेहतर नहीं करना चाहिए? तुम लोगों के पास और क्या विकल्प हैं?

— "वचन देह में प्रकट होता है" में "अभ्यास (6)" से रूपांतरित

पिछला: 635 शैतान के प्रभाव को दूर करने के लिए परमेश्वर के न्याय का अनुभव करो

अगला: 77 परमेश्वर का न्याय उसकी धार्मिकता और पवित्रता को प्रकट करता है

दुनिया आपदा से घिर गई है। यह हमें क्या चेतावनी देती है? आपदाओं के बीच हम परमेश्वर द्वारा कैसे सुरक्षित किये जा सकते हैं? इसके बारे में ज़्यादा जानने के लिए हमारे साथ हमारी ऑनलाइन मीटिंग में जुड़ें।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

Iसमझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग,सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के लिए...

वचन देह में प्रकट होता है अंत के दिनों के मसीह के कथन (संकलन) अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप अंत के दिनों के मसीह के लिए गवाहियाँ परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-सूची

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें