52 स्तुति करो परमेश्वर की वह विजेता बनकर लौटा है

1

अपने छह हज़ार वर्षों के कार्य के ज़रिये,

परमेश्वर अपने कई कर्मों को दिखा चुका है

कर्म शैतान को पराजित करने और पूरी मानवता को बचाने के।

परमेश्वर स्वर्ग में, धरती पर, समुद्र में सब कुछ को,

अपने कामों और असीमित सामर्थ्य को देखने का अवसर देता है

सभी प्राणियों को, सभी प्राणियों को।

शैतान की हार से, मनुष्य देखता है परमेश्वर के कर्मों को।

शैतान की हार से, मनुष्य देखता है परमेश्वर के कर्मों को।

इसीलिए वे उसकी करते हैं स्तुति और उसकी बुद्धि का वे करते हैं महिमामंडन।

धरती पर सब कुछ, स्वर्ग में सब कुछ,

समुद्र की गहराई में सब कुछ गाए महिमा उसकी, महिमा उसकी!

सबको स्तुति करने दो, करो स्तुति परमेश्वर के सर्वसामर्थ्य की।

सभी चीजें करें स्तुति उसके सभी कर्मों की,

जयघोष करें उसके पवित्र नाम की,

जयघोष करें परमेश्वर के पवित्र नाम की!

2

ऐसा जयघोष शैतान की हार का साक्ष्य है,

साक्ष्य है कि परमेश्वर ने अपने शत्रु को जीत लिया है।

ऐसे जयघोष साक्ष्य देते हैं कि उसने हर एक को है बचाया,

अपनी बनाई मानवता को बचाया।

सभी सृष्टि करती है स्तुति, उसने अपने शत्रु को हरा दिया।

वह विजयी होकर लौटता है, वह है महान महाराज जो जीतता है!

शैतान की हार से, मनुष्य देखता है परमेश्वर के कर्मों को।

शैतान की हार से, मनुष्य देखता है परमेश्वर के कर्मों को।

इसीलिए वे उसकी करते हैं स्तुति और उसकी बुद्धि का वे करते हैं महिमामंडन।

धरती पर सब कुछ, स्वर्ग में सब कुछ,

समुद्र की गहराई में सब कुछ गाए महिमा उसकी, महिमा उसकी!

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'तुम्हें पता होना चाहिए कि समस्त मानवजाति आज के दिन तक कैसे विकसित हुई' से रूपांतरित

पिछला: 51 इंसान और परमेश्वर हैं सहभागी आनंद-मिलन में

अगला: 53 सभी देशों के लोगों को जीत लेगा परमेश्वर

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें