509 परमेश्वर द्वारा प्राप्त लोगों ने वास्तविकता प्राप्त की है

1

ईश्वर व्यावहारिक ईश्वर है।

उसका सारा कार्य, सब वचन, सच्चाई जो उसने व्यक्त की, व्यावहारिक हैं।

बाक़ी सब खोखला और अनुचित है।

मानव को पवित्र आत्मा राह दिखाएगा ईश्वर के वचनों में प्रवेश के लिए।

वास्तविकता में प्रवेश के लिए, मानव को ज़रूरत है

इसे जानने और अनुभव करने की।

जो लोग वास्तविकता को जानते हैं वे लोग परमेश्वर द्वारा प्राप्त हैं।

वे उसके कार्य जानते हैं वास्तविकता का अनुभव करके।

तुम जितना ईश्वर का साथ देते हो जितना देह को अनुशासित बनाते हो,

उतना ही ईश्वर कार्य करेगा और तुमपे प्रकाश बरसाएगा,

और तुम सच्चाई को प्राप्त करोगे और ईश्वर के कार्य को जानोगे।

2

वह जो ज़्यादा वास्तविकता जानता है देख सकता है

किसका वचन वास्तविक, कम धारणायुक्त है।

अनुभव के अनुसार मानव ईश्वर के कार्य, जानता है जितना अधिक

अपने भ्रष्टाचार से मुक्त होता है उतना अधिक।

उनके पास है जितनी ज़्यादा वास्तविकता, उतना ज़्यादा परमेश्वर को जानते हैं,

देह से घृणा और सत्य से प्रेम करते हैं, ईश्वरीय मानकों के पास होते हैं।

जो लोग वास्तविकता को जानते हैं वे लोग परमेश्वर द्वारा प्राप्त हैं।

वे उसके कार्य जानते हैं वास्तविकता का अनुभव करके।

तुम जितना ईश्वर का साथ देते हो जितना देह को अनुशासित बनाते हो,

उतना ही ईश्वर कार्य करेगा और तुमपे प्रकाश बरसाएगा,

और तुम सच्चाई को प्राप्त करोगे और ईश्वर के कार्य को जानोगे।

परमेश्वर के वर्तमान प्रकाश में जीओ साफ़ होगा तुम्हारे अभ्यास का मार्ग।

तुम ख़ुद को मुक्त कर सकते हो पुराने अभ्यास से और धार्मिक धारणाओं से।

वास्तविकता पर अब ध्यान है।

जितना मानव ये प्राप्त करता है,

उतना साफ़ हो उसके सत्य का ज्ञान और समझ परमेश्वर की इच्छा की।

जो लोग वास्तविकता को जानते हैं वे लोग परमेश्वर द्वारा प्राप्त हैं।

वे उसके कार्य जानते हैं वास्तविकता का अनुभव करके।

तुम जितना ईश्वर का साथ देते हो जितना देह को अनुशासित बनाते हो,

उतना ही ईश्वर कार्य करेगा और तुमपे प्रकाश बरसाएगा,

और तुम सच्चाई को प्राप्त करोगे और ईश्वर के कार्य को जानोगे।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'वास्तविकता को कैसे जानें' से रूपांतरित

पिछला: 508 पूर्ण किए जाने के लिए सत्य के अभ्यास पर ध्यान लगाओ

अगला: 510 तुम्हें सभी चीज़ों में परमेश्वर की गवाही देनी चाहिए

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें