508 पूर्ण किए जाने के लिए सत्य के अभ्यास पर ध्यान लगाओ

1

अगर तुम हो सरल, साफ़दिल और खुद को जानते हो

और सत्य को अभ्यास में लाते हो,

तो ईश्वर तुम्हें ज़रूर आशीष देगा,

कमज़ोर या नकारात्मक होते हो जब तुम,

तो वह तुम्हें दोगुना प्रबुद्ध करे,

मदद करे कि तुम खुद को जानो और गहराई से,

अधिक पछतावा कर सको,

अभ्यास कर पाओ उसका जिसका करना चाहिए।

इसी तरह तुम्हारा दिल शांति और सुकून पाएगा।

जब ईश्वर तुम्हें पूर्ण करे, तो वो तुम्हें प्रबुद्ध करे

तुम्हारे योग्य हिस्सों का इस्तेमाल करके

ताकि तुम्हें अभ्यास का पथ मिले,

अलग हो सको नकारात्मक चीज़ों से,

अपनी आत्मा की मुक्ति पाओ,

ईश्वर से और प्रेम कर पाओ।

इसी तरह तुम फेंक सकते हो

शैतान की भ्रष्टता को।

2

जो ध्यान दे अपने अभ्यास पर,

ईश्वर और खुद को जानने पर,

वो अक्सर पा सकेगा

ईश्वर का काम, मार्गदर्शन और प्रबोधन।

भले ही ऐसे इंसान का मन हो

नकारात्मक दशा में,

वो तुरंत ही चीज़ों को पलट सके

अपने ज़मीर या ईश-वचनों के प्रबोधन से।

किसी इंसान के स्वभाव में बदलाव

आए जब वो अपनी स्थिति जाने

और सिरजनहार के काम और स्वभाव को जाने।

जो इंसान तैयार हो खुलने को

खुद को जानने को, वो सत्य का अभ्यास कर सके।

वो होता वफादार और ईश्वर को समझे,

चाहे वो समझ हो थोड़ी या ज़्यादा।

ये है धार्मिकता ईश्वर की,

और लाभ उनका अपना।

जब ईश्वर तुम्हें पूर्ण करे, तो वो तुम्हें प्रबुद्ध करे

तुम्हारे योग्य हिस्सों का इस्तेमाल करके

ताकि तुम्हें अभ्यास का पथ मिले,

अलग हो सको नकारात्मक चीज़ों से,

अपनी आत्मा की मुक्ति पाओ,

ईश्वर से और प्रेम कर पाओ।

इसी तरह तुम फेंक सकते हो

शैतान की भ्रष्टता को।

3

जिसके पास है ज्ञान ईश्वर का

उसके पास है आधार और दर्शन।

वो निश्चित है ईश-देह, ईश-कार्य, ईश-वचन के बारे में।

चाहे ईश्वर जैसे भी काम करे या बोले,

चाहे दूसरे कैसे भी बाधा डालें,

वो अपनी बात पर अडिग रह सके, ईश्वर की गवाही दे सके।

जब ईश्वर तुम्हें पूर्ण करे, तो वो तुम्हें प्रबुद्ध करे

तुम्हारे योग्य हिस्सों का इस्तेमाल करके

ताकि तुम्हें अभ्यास का पथ मिले,

अलग हो सको नकारात्मक चीज़ों से,

अपनी आत्मा की मुक्ति पाओ,

ईश्वर से और प्रेम कर पाओ।

इसी तरह तुम फेंक सकते हो

शैतान की भ्रष्टता को।

ईश्वर का ज्ञान जितना हो किसी इंसान के पास,

उतना ही वो समझे हुए सत्य पर अमल कर सके।

क्योंकि वो हमेशा ईश-वचन का अभ्यास करे,

वो ईश्वर को बेहतर जाने और गवाही देना चाहे सदा, सदा।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'केवल उन्हें ही पूर्ण बनाया जा सकता है जो अभ्यास पर ध्यान देते हैं' से रूपांतरित

पिछला: 507 सच्चाई से जी कर ही तू दे सकता है गवाही

अगला: 509 परमेश्वर द्वारा प्राप्त लोगों ने वास्तविकता प्राप्त की है

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें