507 सच्चाई से जी कर ही तू दे सकता है गवाही

1

सत्य है जिनमें, वे ही ऐसे लोग हैं जो अपने अनुभव में,

मज़बूती से दे सकते हैं गवाही, खड़े रह सकते हैं डटकर, परमेश्वर के पक्ष में,

कभी हटते नहीं पीछे, मौत आने तक मानते हैं हुक्म परमेश्वर का,

बनाए रखते हैं सामान्य रिश्ता उनसे, जो प्रेम करते हैं परमेश्वर से।

असल ज़िंदगी में तेरा अमल और अभिव्यक्ति हैं गवाही परमेश्वर की।

जिसे इंसान को चाहिये जीना।

यही है असल में परमेश्वर के प्यार का आनन्द लेना।

जब पहुँचेगा तू यहाँ, तो हासिल होगा उपयुक्त नतीजा।

2

तेरे पास है असल बर्ताव सत्य के अमल का।

तेरा हर काम सराहा जाता है दूसरों द्वारा।

सादा है तेरा बाहरी रूप मगर, जीता है धर्मपरायणता का जीवन तू।

परमेश्वर करता है प्रबुद्ध तुझे, जब साझा करता है परमेश्वर के वचनों को तू।

अपने शब्दों से इच्छा परमेश्वर की तू बोल पाता है,

सच्चाई बोलता है, आत्मा में सेवा को समझता है,

अपनी ज़बान में तू खरा है, शालीन है, सरल है, अशांत नहीं है,

परमेश्वर की योजना का पालन कर सकता है,

अपनी गवाही में डटा रह सकता है।

जब आ जाती है कोई बात तुझ पर, तो तू शांत-स्थिर रहता है।

परमेश्वर के प्यार को ऐसे ही इंसान ने देखा है।

असल ज़िंदगी में तेरा अमल और अभिव्यक्ति हैं गवाही परमेश्वर की,

जिसे इंसान को चाहिये जीना।

यही है असल में परमेश्वर के प्यार का आनन्द लेना।

जब पहुँचेगा तू यहाँ, तो हासिल होगा उपयुक्त नतीजा।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर से प्रेम करने वाले लोग सदैव उसके प्रकाश के भीतर रहेंगे' से रूपांतरित

पिछला: 506 सत्य पर और अमल करो, परमेश्वर का और आशीष पाओ

अगला: 508 पूर्ण किए जाने के लिए सत्य के अभ्यास पर ध्यान लगाओ

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें