सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

सच्चाई से जी कर ही तू दे सकता है गवाही

I

सत्य है जिनमें, वे ही ऐसे लोग हैं जो अपने अनुभव में,

मज़बूती से दे सकते हैं गवाही,

खड़े रह सकते हैं डटकर, परमेश्वर के पक्ष में,

कभी हटते नहीं पीछे, मौत आने तक मानते हैं हुक्म परमेश्वर का,

बनाए रखते हैं सामान्य रिश्ता उनसे, जो प्रेम करते हैं परमेश्वर से।

असल ज़िंदगी में तेरा अमल और अभिव्यक्ति

हैं गवाही परमेश्वर की।

जिसे इंसान को चाहिये जीना।

यही है असल में परमेश्वर के प्यार का आनन्द लेना।

जब पहुँचेगा तू यहाँ, तो हासिल होगा उपयुक्त नतीजा।

II

तेरे पास है असल बर्ताव सत्य के अमल का।

तेरा हर काम सराहा जाता है दूसरों द्वारा।

सादा है तेरा बाहरी रूप मगर, जीता है धर्मपरायणता का जीवन तू।

परमेश्वर करता है प्रबुद्ध तुझे, जब साझा करता है परमेश्वर के वचनों को तू।

III

अपने शब्दों से इच्छा परमेश्वर की तू बोल पाता है,

सच्चाई बोलता है, आत्मा में सेवा को समझता है,

अपनी ज़बान में तू खरा है,

शालीन है, सरल है, अशांत नहीं है,

परमेश्वर की योजना का पालन कर सकता है,

अपनी गवाही में डटा रह सकता है।

जब आ जाती है कोई बात तुझ पर, तो तू शांत-स्थिर रहता है।

परमेश्वर के प्यार को ऐसे ही इंसान ने देखा है।

असल ज़िंदगी में तेरा अमल और अभिव्यक्ति

हैं गवाही परमेश्वर की,

जिसे इंसान को चाहिये जीना।

यही है असल में परमेश्वर के प्यार का आनन्द लेना।

जब पहुँचेगा तू यहाँ, तो हासिल होगा उपयुक्त नतीजा।

"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला:शरीर त्यागने का अभ्यास

अगला:देह में परमेश्वर के कार्य का मुख्य प्रयोजन