506 सत्य पर और अमल करो, परमेश्वर का और आशीष पाओ

परमेश्वर करे धन्य उन्हें जिनमें हो दर्शन,

हो सत्य और ज्ञान भी, और करें उससे सच्चा प्रेम।


1

परमेश्वर का प्रेम देखने के लिए तुम्हें जीवन में करना होगा अमल सत्य पर,

दर्द पीना होगा, त्यागना होगा प्रिय चीज़ों को उसे खुश करने के लिए।

बहते आँसुओं के बावजूद तुम्हें उसके हृदय को संतुष्ट करना होगा।

तुम धन्य हो जाओगे और तुम्हारा दर्द पवित्र आत्मा का कार्य लाएगा।

वास्तविक जीवन और ईश्वर के वचनों के,

अनुभव से लोग उसकी मनोहरता देख सकते हैं।

उसके प्रेम को जान कर ही कर सकते हैं उससे सच्चा प्यार।


तुम जितना ज़्यादा सच का अभ्यास करोगे,

उतना ही अधिक उसका आशीष पाओगे।

जितना ज़्यादा तुम सत्य पर करोगे अमल,

उतना ही सत्य होगा तुममें।

तुम जितना ज़्यादा सच का अभ्यास करोगे,

उतना ही अधिक परमेश्वर के प्रेम से भर जाओगे।


2

जो ऐसे करोगे अमल सदा, खुद में ईश्वर प्रेम देखोगे।

जानोगे उसे पतरस की तरह

कि परमेश्वर में है बुद्धि

रचने की स्वर्ग धरती सब कुछ और उससे भी अधिक है,

लोगों में वास्तविक कार्य करने की भी बुद्धि उसमें।

पतरस ने कहा ईश्वर लोगों के प्रेम के योग्य है

क्योंकि उसने बनाईं स्वर्ग, धरती और सभी चीज़ें।

क्योंकि उसने इंसान बनाया, वह उसे बचा सके, पूर्ण कर सके।

वह इंसान को अपना प्यार देता है। बहुत कुछ है उसमें प्रेम करने के लिए।

वास्तविक जीवन और ईश्वर के वचनों के,

अनुभव से लोग उसकी मनोहरता देख सकते हैं।

उसके प्रेम को जान कर ही कर सकते हैं उससे सच्चा प्यार।


तुम जितना ज़्यादा सच का अभ्यास करोगे,

उतना ही अधिक उसका आशीष पाओगे।

जितना ज़्यादा तुम सत्य पर करोगे अमल,

उतना ही सत्य होगा तुममें।

तुम जितना ज़्यादा सच का अभ्यास करोगे,

उतना ही अधिक परमेश्वर के प्रेम से भर जाओगे।


—वचन, खंड 1, परमेश्वर का प्रकटन और कार्य, परमेश्वर से प्रेम करने वाले लोग सदैव उसके प्रकाश के भीतर रहेंगे से रूपांतरित

पिछला: 505 सत्य का अभ्यास करने के लिए कष्ट उठाने पर ईश्वर की प्रशंसा प्राप्त होती है

अगला: 507 सच्चाई से जी कर ही तू दे सकता है गवाही

परमेश्वर का आशीष आपके पास आएगा! हमसे संपर्क करने के लिए बटन पर क्लिक करके, आपको प्रभु की वापसी का शुभ समाचार मिलेगा, और 2024 में उनका स्वागत करने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें