359 इंसान परमेश्वर के वचनों को दिल से ग्रहण नहीं करता

1

परमेश्वर ने एक बार इंसान को दिखाया था

अपने दिव्य राज्य का ख़ूबसूरत नज़ारा।

इंसान मगर ललचाई नज़रों से महज़ ताकता रहा।

सचमुच कोई प्रवेश नहीं करना चाहता था।

एक बार परमेश्वर ने इंसान को धरती की चीज़ों का हाल बताया,

सुनी उसकी बात इंसान ने, मगर उसके वचनों को दिल से नहीं लगाया।

एक बार परमेश्वर ने इंसान को स्वर्ग का सच बताया,

इंसान ने उस सच को मगर किस्सा बताया

और उसके वचनों को दिल से नहीं लगाया।

2

इंसानों के बीच राज्य के नज़ारे आज कौंधते हैं,

लेकिन किसने उसकी खोज में एक किया है ज़मीन-आसमान?

बिना ईश्वरीय प्रेरणा के अपनी गहरी नींद से, अभी भी नहीं जागेगा इंसान।

क्या सचमुच इतना मोहित है धरती के जीवन से इंसान?

क्या कोई ऊँचे आदर्श नहीं हैं उसके दिल में?

एक बार परमेश्वर ने इंसान को धरती की चीज़ों का हाल बताया,

सुनी उसकी बात इंसान ने, मगर उसके वचनों को दिल से नहीं लगाया।

एक बार परमेश्वर ने इंसान को स्वर्ग का सच बताया,

इंसान ने उस सच को मगर किस्सा बताया

और उसके वचनों को दिल से नहीं लगाया।

एक बार परमेश्वर ने इंसान को धरती की चीज़ों का हाल बताया,

सुनी उसकी बात इंसान ने, मगर उसके वचनों को दिल से नहीं लगाया।

एक बार परमेश्वर ने इंसान को स्वर्ग का सच बताया,

इंसान ने उस सच को मगर किस्सा बताया

और उसके वचनों को दिल से नहीं लगाया।

उस सच को मगर किस्सा बताया और उसके वचनों को दिल से नहीं लगाया।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'संपूर्ण ब्रह्मांड के लिए परमेश्वर के वचन' के 'अध्याय 25' से रूपांतरित

पिछला: 358 परमेश्वर उदास कैसे न हो?

अगला: 360 क्या तुम लोग सचमुच परमेश्वर के वचनों में जीते हो?

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें