293 केवल परमेश्वर ही सर्वश्रेष्ठ है

1 

परमेश्वर के सभी वचन सत्य हैं, वो जो कहता और करता है वह सब धार्मिक है।

उसके वचनों के न्याय से गुज़रते हुए हमें सत्य खोजना चाहिए।

चूँकि हम अपने भ्रष्ट स्वभाव को स्वीकारते हैं, इसलिए हमें और भी परमेश्वर के न्याय को समर्पित होना चाहिए। 

जब हमारे स्वभाव से भ्रष्टता पूरी तरह साफ हो जाएगी तभी हम उसकी इच्छा को संतुष्ट कर सकते हैं।

हम अपनी धारणाओं और कल्पनाओं को त्यागकर, परमेश्वर की ओर देखते हैं, सत्य का अभ्यास करते हैं।

पतरस का अनुकरण करने के लिए अपने संकल्प को मज़बूत करो और शानदार गवाही दो।

आओ हम ऊँचे सुर गाएँ; केवल परमेश्वर ही सर्वश्रेष्ठ है!

हम सदा परमेश्वर की पवित्रता और धार्मिकता की स्तुति करेंगे। 

2 

परमेश्वर के वचनों के न्याय से गुज़रते हुए, मैंने देखा है कि शैतान के हाथों मैं कितनी बुरी तरह से भ्रष्ट हो चुका हूँ।

मैं अभिमानी, कुटिल और धोखेबाज हूँ, मेरे अंदर सचमुच कोई इंसानियत नहीं है।

न्याय को स्वीकार करने और खुद को जानने के बाद, मैंने वास्तव में पश्चाताप किया है।

किसी अपराध को सहन न करने वाले परमेश्वर के स्वभाव का अनुभव करके, मैं परमेश्वर के प्रति श्रद्धानत हो गया हूँ।

परमेश्वर के न्याय और ताड़ना के पीछे उसका असीम प्रेम छिपा है।

देह-सुख का त्याग और सत्य का अभ्यास करते हुए, मुझे लगता है मैं परमेश्वर के और भी करीब आ गया हूँ।

आओ हम ऊँचे सुर गाएँ; केवल परमेश्वर ही सर्वश्रेष्ठ है!

हम सदा परमेश्वर की पवित्रता और धार्मिकता की स्तुति करेंगे। 

3 

जब उत्पीड़न, कष्ट, परीक्षण आते हैं, हमें परमेश्वर का गौरवगान करना और उसकी गवाही देनी चाहिये।

जीवन-मृत्यु दोनों में, सृजित प्राणियों को परमेश्वर के शासन के प्रति समर्पित होना चाहिए।

कठिनाई और दर्द सहकार, हम शैतान से नफरत करने लगते हैं, और परमेश्वर कितना प्यारा है, इसकी और भी समझ पाते हैं।

शैतान को शर्मिंदा के लिए हमें जोखिम उठाना चाहिये, हमें विजयी गवाही देनी चाहिये।

हल्की यातनाएँ जो महज़ अस्थायी होती हैं, उनके बदले सत्य और जीवन मिलता है। 

परमेश्वर का हर कथन और हर कर्म प्रेम है; इसमें हमारी आस्था मजबूत है और संदेह से मुक्त है। 

आओ हम ऊँचे सुर गाएँ; केवल परमेश्वर ही सर्वश्रेष्ठ है!

हम सदा परमेश्वर की पवित्रता और धार्मिकता की स्तुति करेंगे। 

पिछला: 292 परमेश्वर के प्रेम ने मेरे दिल को पिघला दिया है

अगला: 294 तुम्हीं बचा सकते हो मुझे केवल

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

Iसमझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग,सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के लिए...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

Iपूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने,हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें