207 मैं परमेश्वर के वचनों द्वारा जीत लिया जाता हूँ

1

मैंने बरसों प्रभु में विश्वास रखा है, फिर भी सत्य का अनुसरण करना नहीं जाना।

मैं धार्मिक अनुष्ठानों से चिपका रहा, परमेश्वर में मेरी आस्था अस्पष्ट और अमूर्त थी।

मैं बाइबल को थोड़ा-बहुत समझता था, और मुझे लगा कि मैं परमेश्वर को जानता हूँ।

मैंने पुरस्कार और मुकुट पाने के लिये प्रभु की ख़ातिर अपने आपको खपाया, कष्ट उठाए।

मेरा दिल परमेश्वर के बारे में धारणाओं और कल्पनाओं से भरा था।

मेरे दिल में परमेश्वर की कृपा और आशीषों का आनंद लेने की हवस थी।

जब मैंने देहधारी मनुष्य के पुत्र के कथन को निहारा,

मैंने परमेश्वर के कार्य को मापने के लिए बाइबल के वचनों का इस्तेमाल किया।

मैं धार्मिक धारणाओं से चिपका रहा, और सोचा यही प्रभु के प्रति निष्ठा है।

मेरे कृत्य फ़रीसियों से जुदा कैसे थे?

2

जब मैंने परमेश्वर के वचनों के न्याय का अनुभव किया, तो यह एक सपने से जागने जैसा था।

मैंने देखा कि कैसे मेरे अहंकार ने मुझे ज़मीर और विवेक खोने को मजबूर किया।

बिना सत्य के, मैंने अक्सर परमेश्वर को धारणाओं और कल्पनाओं से सीमा में बांधा।

मैंने मसीह की भी आलोचना की और उसे नकार दिया, जैसे कि वह कोई साधारण इंसान हो।

जब परमेश्वर के वचनों ने मुझे पर विजय पा ली, तब जाकर मैंने परमेश्वर के रूप को निहारा।

अपने अहंकार और अंधेपन की वजह से परमेश्वर को न जान पाने के कारण मुझे ख़ुद नफ़रत हो गई।

अपनी पिछली नाफ़रमानी और विरोध के बारे में सोचते हुए, मैं पश्चाताप से भर गया।

परमेश्वर के सामने झुकते हुए, मुझे बेहद पछतावा हुआ।

मैंने सत्य का अनुसरण करने और इंसान की तरह जीवन जीने का संकल्प लिया।

मैंने अपने हृदय को परमेश्वर के अनुसरण में लगा दिया, मैं तब तक चैन नहीं लूँगा जब तक कि मैं सत्य को न पा लूँ।

पिछला: 206 मैं परमेश्वर को दोबारा कभी नहीं छोड़ूँगी

अगला: 208 परमेश्वर का न्याय एक आशीष है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें