683 परमेश्वर को उसके अनुग्रह का आनंद लेकर नहीं जाना सकता

इंसान ईश्वर के लिए दुख सह पाता है

इतनी दूर आ सका है, उसके प्रेम के कारण,

उसके उद्धार, न्याय के कारण,

इंसान में किए गए ताड़ना के काम के कारण।

1

अगर तुम रहित हो ईश्वर के न्याय से, उसकी ताड़ना, परीक्षण से,

अगर वो तुम लोगों को कष्ट न दे,

तो तुम उससे सच्चा प्रेम न कर पाओगे।

ईश्वर का काम इंसान में जितना बड़ा हो, जितना अधिक वो कष्ट सहे,

उतना अधिक ये दिखाये कि ईश-कार्य बहुत सार्थक है,

उतना अधिक इंसान प्रेम कर सके ईश्वर से।

ईश्वर से इंसान के प्रेम के दो आधार हैं : ईश्वर द्वारा शोधन और न्याय।

अगर तुम बस ईश्वर के अनुग्रह का आनंद लेते,

शांति भरा जीवन जीते, संसार के आशीष पाते हो,

तो तुम्हारी आस्था सफल नहीं हुई, और तुमने नहीं पाया है ईश्वर को।

2

अब, इंसान समझे कि बस परमेश्वर की दया, अनुग्रह और प्रेम से

वो कभी खुद को न जान पाएगा,

कभी इंसान के सार को समझ या बूझ न पाएगा।

केवल ईश्वर द्वारा शोधन और न्याय से,

और शोधन की प्रक्रिया के दौरान ही, इंसान अपनी कमियाँ जान सके,

और जान पाये कि उसके पास कुछ नहीं।

ईश्वर से इंसान के प्रेम के दो आधार हैं : ईश्वर द्वारा शोधन और न्याय।

अगर तुम बस ईश्वर के अनुग्रह का आनंद लेते,

शांति भरा जीवन जीते, संसार के आशीष पाते हो,

तो तुम्हारी आस्था सफल नहीं हुई, और तुमने नहीं पाया है ईश्वर को।

3

ईश्वर ने अनुग्रह के काम का एक चरण पूरा कर लिया,

वो इंसान पर आशीष पहले ही बरसा चुका।

पर इंसान को पूर्ण न बनाया जा सके, सिर्फ अनुग्रह, प्रेम और दया से।

जीवन में इंसान ने कुछ ईश-प्रेम पाया है।

वो ईश्वर का प्रेम और दया देखे।

पर, कुछ समय इसका अनुभव कर,

वो समझ जाये कि यह इंसान को पूर्ण न बना सके।

अनुग्रह और प्रेम भ्रष्टता को प्रकट या दूर न कर सकें।

ये इंसान के प्रेम और आस्था को पूर्ण न कर सकें।

ईश-अनुग्रह तो बस एक चरण का काम था;

अनुग्रह के भरोसे इंसान ईश्वर को न जान सके।

ईश्वर से इंसान के प्रेम के दो आधार हैं : ईश्वर द्वारा शोधन और न्याय।

अगर तुम बस ईश्वर के अनुग्रह का आनंद लेते,

शांति भरा जीवन जीते, संसार के आशीष पाते हो,

तो तुम्हारी आस्था सफल नहीं हुई, और तुमने नहीं पाया है ईश्वर को।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'पीड़ादायक परीक्षणों के अनुभव से ही तुम परमेश्वर की मनोहरता को जान सकते हो' से रूपांतरित

पिछला: 682 परमेश्वर मनुष्य को कई तरह से पूर्ण बनाता है

अगला: 684 वे सभी जो निष्ठापूर्वक परमेश्वर की तलाश करते हैं, उसकी आशीषों को हासिल कर सकते हैं

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें