682 परमेश्वर मनुष्य को कई तरह से पूर्ण बनाता है

1

पवित्र आत्मा हर इंसान में एक राह पर चले,

सभी को पूर्ण बनाए जाने का मौका दे।

तुम्हारी नकारात्मकता से तुम्हें

दिखाई जाती तुम्हारी भ्रष्टता।

इससे बाहर निकलकर तुम्हें मिलेगा अभ्यास का पथ।

ये सभी हैं तरीके जिनसे तुम पूर्ण बनाए जाते।


तुममें हैं जो सकारात्मक चीज़ें, उनके मार्गदर्शन में,

तुम सक्रियता से अपना काम करोगे,

अंतर्दृष्टि और विवेक पाओगे।

अच्छे हालात में, तुम ईश्वर से प्रार्थना करने,

उसके वचन पढ़ने को बिल्कुल तैयार होते हो,

जो उपदेश सुनते हो उन्हें अपनी स्थिति से जोड़ते हो।


ऐसे समय में ईश्वर तुम्हें भीतर से प्रबुद्ध करे,

सकारात्मक चीज़ों का एहसास कराए।

इस तरह तुम पूर्ण किए जाते हो,

सकारात्मक पहलू में पूर्ण बनाए जाते हो।


2

नकारात्मक स्थितियों में तुम

दुर्बल और निष्क्रिय होते।

दिल में खोजते, पर ईश्वर को नहीं पाते,

फिर भी ईश्वर तुम्हें रोशन करे,

अभ्यास का पथ खोजने दे।

ये है नकारात्मक समय में पूर्णता पाना।

ईश्वर दोनों पहलुओं में इंसान को पूर्ण बना सके।


ये निर्भर करे इस पर कि

क्या तुम अनुभव कर सकते,

और क्या ईश्वर द्वारा पूर्ण

बनाए जाने का प्रयास करते।

अगर हाँ, तो नकारात्मकता तुम्हें

समझाए तुम्हारी असल स्थिति,

तुम्हारी कमी, लेकिन इससे तुम्हें नुकसान न हो।

तुम देख पाते इंसान के पास और खुद वो कुछ नहीं।


परीक्षा से अगर तुम नहीं गुजरते,

तो तुम सदा खुद को दूसरों से बेहतर समझोगे।

इस सबसे देखोगे पहले तुम जो कर सकते थे

वो ईश्वर ने किया था, उसी के द्वारा रक्षित था।


3

परीक्षा तुम्हें प्रेमहीन, आस्थाहीन कर देती।

प्रार्थना करने, भजन गाने की

तुम्हारी इच्छा नहीं रहती।

फिर अनजाने में ही,

इस सबके बीच तुम खुद को जान जाते।

इंसान को पूर्ण बनाने के

कई तरीके हैं ईश्वर के पास।

इंसान के भ्रष्ट स्वभाव से निपटने को

वो इस्तेमाल करे कई परिवेश,

कई चीज़ों से वो उजागर करे उसे।


यानी, एक ओर तो ईश्वर इंसान से निपटे,

दूसरी ओर उसका सच दिखाए,

तीसरी ओर उसे उजागर करे,

उसके भीतर के ऐसे 'राज़' निकाले,

जिनसे वो खुद अनजान था,

इंसान की सभी स्थितियाँ प्रकट कर

उसे उसकी प्रकृति दिखाए।


ईश्वर इंसान को कई तरीकों से पूर्ण करे,

उससे निपटकर, उसे उजागर करके,

उसका शोधन कर, उसे ताड़ना दे के,

ताकि इंसान जाने ईश्वर कितना व्यावहारिक है।


—वचन, खंड 1, परमेश्वर का प्रकटन और कार्य, केवल उन्हें ही पूर्ण बनाया जा सकता है जो अभ्यास पर ध्यान देते हैं से रूपांतरित

पिछला: 681 परमेश्वर के परीक्षण और शुद्धिकरण मानव की पूर्णता के लिए हैं

अगला: 683 परमेश्वर को उसके अनुग्रह का आनंद लेकर नहीं जाना सकता

परमेश्वर का आशीष आपके पास आएगा! हमसे संपर्क करने के लिए बटन पर क्लिक करके, आपको प्रभु की वापसी का शुभ समाचार मिलेगा, और 2024 में उनका स्वागत करने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

परमेश्वर का प्रकटन और कार्य परमेश्वर को जानने के बारे में अंत के दिनों के मसीह के प्रवचन सत्य के अनुसरण के बारे में I न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सत्य वास्तविकताएं जिनमें परमेश्वर के विश्वासियों को जरूर प्रवेश करना चाहिए मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवात्मक गवाहियाँ मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवात्मक गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें