154 मेरे प्रिय, इंतज़ार करो मेरा

1

पेड़ों पर चढ़ रहा है ख़ामोश चाँद, मेरे उजले और सुंदर प्रिय की तरह।

हे मेरे प्रिय, कहाँ हो तुम?

आँसुओं में डूबी हूँ मैं, क्या सुन रहे हो मेरी पुकार?

तुम्हीं से मिलता है प्यार मुझे, तुम्हीं से मिलती है देख-भाल मुझे।

तुम्हीं सोचते हो मेरे बारे में, तुम्हीं संजोते हो जीवन मेरा।

ओ चाँद, तुम जाओ आसमाँ के उस ओर,

मत कराओ मेरे प्रिय को इंतज़ार और।

कह दो उनसे याद आती मुझे उनकी।

मत भूलना मेरा प्यार साथ ले जाना, साथ ले जाना।


2

हँसों के जोड़े उड़ रहे हैं दूर आसमाँ में।

क्या वो लाएंगे मेरे प्रिय का संदेसा मेरे लिये?

दे दो मुझे पँख अपने, मैं उड़ कर जा सकूँ वापस घर अपने।

अदा कर दूँगी कीमत अपने प्रिय की परवाह की।

कहना चाहती हूँ मत होना उदास प्रिये!

मैं दूँगी वो जवाब जो तुम्हें ख़ुश करे।

इसलिये ज़ाया न जाएगी तुम्हारी कोशिशें।

काश, मैं हो जाती जल्दी बड़ी,

ताकि भटकती, दुखभरी ज़िंदगी से मिलती आज़ादी मुझे।

हे प्रिये, करना इंतज़ार मेरा,

दुनिया के सारे सुखों से मुंह मोड़कर आ जाऊँगी।

अदा कर दूँगी कीमत अपने प्रिय की परवाह की।

कहना चाहती हूँ मत होना उदास प्रिये!

मैं दूँगी वो जवाब जो तुम्हें ख़ुश करे।

इसलिये ज़ाया न जाएगी तुम्हारी कोशिशें।

इसलिये ज़ाया न जाएगी तुम्हारी कोशिशें, तुम्हारी कोशिशें।

पिछला: 153 परमेश्वर द्वारा उद्धार से आनंदित हैं हम

अगला: 155 तुम्हारी रोशनी में आता है हर देश

परमेश्वर का आशीष आपके पास आएगा! हमसे संपर्क करने के लिए बटन पर क्लिक करके, आपको प्रभु की वापसी का शुभ समाचार मिलेगा, और 2024 में उनका स्वागत करने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें