502 दैहिक इच्छाएँ त्यागने का अर्थ

1

ईश्वर ने बचाया तुम्हें, चुनी किस्मत तुम्हारी,

लेकिन अगर तुम उसे संतुष्ट न करो,

सत्य का अभ्यास न करो,

ईश्वर-प्रेमी हृदय से अपने देह की इच्छाओं से न लड़ो,

तो खुद को बर्बाद कर लोगे, दर्द में डूब जाओगे।

2

अगर तुम सिर्फ़ देह की परवाह करोगे,

तो धीरे-धीरे शैतान निगल जाएगा तुम्हें,

न जीवन बचेगा, न स्पर्श आत्मा का,

तुम्हारे अंदर अंधकार भर जाएगा।

फिर शैतान के बंदी बन जाओगे तुम,

तुम्हारे दिल में ईश्वर न रहेगा, उसे नकारकर छोड़ दोगे तुम।

क्या तुम ईश्वर के सामने जीवन पाओगे, क्या होगा अंत तुम्हारा,

निर्भर करे कि तुम कैसे लड़ते अपने देह से।

3

ईश्वर से प्रेम करने के लिए तुम्हें कठिनाई और दर्द सहना होगा।

तुम्हें बाहरी जोश या कठिनाई की,

ज्यादा पढ़ने, दौड़ने-भागने की ज़रूरत नहीं।

फ़िजूल विचार, अपने हित करो किनारे,

अपनी धारणाएँ और इरादे छोड़ो,

अपनी योजनाएँ मन से निकालो, यही ईश-इच्छा है।

क्या तुम ईश्वर के सामने जीवन पाओगे, क्या होगा अंत तुम्हारा,

निर्भर करे कि तुम कैसे लड़ते अपने देह से।

ईश्वर कहे लोगों से सत्य का अभ्यास करने के लिए,

अपने भीतर की उन चीज़ों, विचारों,

धारणाओं से निपटने के लिए जो ईश्वर के हृदय के अनुसार नहीं।

इंसान की ये बातें ईश्वर के काम की नहीं, देह भरा हुआ है विद्रोह से,

इसलिए इंसान को देह से लड़ना सीखना होगा।

ईश्वर इसे ही कष्ट कहे, चाहे कि इंसान इसे उसके संग सहे।

क्या तुम ईश्वर के सामने जीवन पाओगे, क्या होगा अंत तुम्हारा,

निर्भर करे कि तुम कैसे लड़ते अपने देह से।

क्या तुम ईश्वर के सामने जीवन पाओगे, क्या होगा अंत तुम्हारा,

निर्भर करे कि तुम कैसे लड़ते अपने देह से।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'केवल परमेश्वर से प्रेम करना ही वास्तव में परमेश्वर पर विश्वास करना है' से रूपांतरित

पिछला: 501 शरीर त्यागने का अभ्यास

अगला: 503 परमेश्वर की मनोरमता को देखने के लिए देहासक्ति को त्याग दो

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें