284 परमेश्‍वर को प्रेम करने के मार्ग पर चलना

1

मुझे परवाह नहीं कि परमेश्वर में विश्वास करने का रास्ता कितना कठिन है,

मैं अपने उद्यम के रूप में केवल परमेश्वर की इच्छा को पूरा करता हूं;

मुझे इस बात की ज़रा भी परवाह नहीं है कि भविष्य में मुझे आशीष मिलते हैं या मैं दुख उठाता हूँ।

अब जबकि मैंने परमेश्वर से प्रेम करने का संकल्प ले लिया है, मैं अंत तक निष्ठावान रहूँगा।

मेरे पीछे कितने भी ख़तरे या मुश्किलें घात लगाए बैठी हों, मुझे परवाह नहीं है,

मेरा अंत चाहे कुछ भी हो,

परमेश्वर के गौरवमय दिन का स्वागत करने के लिए,

मैं परमेश्वर के पदचिह्नों के नज़दीक चलता हूँ और आगे बढ़ने का प्रयास करता हूँ।

2

मैं देखता हूँ कि परमेश्वर का दिल बहुत चिंतित है।

परमेश्वर के बोझ को साझा करने के लिए मुझे अपना कर्तव्य कैसे निभाना चाहिए?

राज्य के सुसमाचार को फैलाने का मार्ग लम्बा और कठिन है।

परमेश्वर को प्रेम करने का चुनाव करने का अर्थ है कि हमें उसके आदेशों का दायित्व उठाना होगा;

केवल अपना कर्तव्य अच्छे से निभाना ही उसके प्रति सच्चा प्रेम रखना है।

मैंने परमेश्वर को सूकून देने के लिए सत्य का अनुसरण करने का संकल्प लिया है।

परमेश्वर ने मुझे जीवन दिया है; यह बिलकुल सही और स्वाभाविक है कि मैं उसके प्रति अत्यधिक वफादार रहूँ।

दिल से उससे प्रेम करके मुझे उसके प्रेम का प्रतिदान देना चाहिए।

कठिनाई और परीक्षण दिखाते हैं कि क्या लोग सच में परमेश्वर से प्रेम करते हैं।

जो सत्य समझते हैं उन्हें गवाही देने के लिए लड़ना चाहिए।

कठिनाई और परीक्षण चाहे कितने भी बड़े हों, हमें फिर भी गवाही देनी चाहिए।

चाहे हम जिएँ या मरें, हम यह जीवन परमेश्वर के लिए जीते हैं।

चाहे हम जिएँ या मरें, हम यह जीवन परमेश्वर के लिए जीते हैं।

पिछला: 283 आखिरकार मैं परमेश्वर से प्रेम कर सकती हूं

अगला: 285 बिना पश्चाताप के परमेश्वर से प्रेम करने का गीत

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

Iसमझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग,सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के लिए...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें