284 परमेश्वर से प्रेम करने की राह पर आगे बढ़ना

1

यह परवाह किए बिना कि आस्था का रास्ता कितना कठिन है,

मेरा एकमात्र उद्देश्य परमेश्वर की इच्छा को पूरा करना है;

मुझे इस बात की भी जरा भी परवाह नहीं है कि भविष्य में मुझे आशीष मिलते हैं या मैं दुख उठाता हूँ।

अब जबकि मैंने परमेश्वर से प्रेम करने का संकल्प कर लिया है, मैं अंत तक निष्ठावान रहूँगा।

मेरे पीछे चाहे कितने भी खतरे या मुश्किलें घात लगाए बैठी हों,

और मेरा अंत चाहे कुछ भी हो,

परमेश्वर की महिमा के दिन का स्वागत करने के लिए,

मैं परमेश्वर के पदचिह्नों का ध्यान से अनुसरण करते हुए निरंतर आगे बढ़ने का प्रयास करता हूँ।

2

मैं देखता हूँ कि परमेश्वर कितना चिंतित है।

मैं अपना कर्तव्य कैसे निभाऊँ कि परमेश्वर के बोझ को बाँट सकूँ?

राज्य के सुसमाचार को फैलाने का मार्ग लंबा और कठिन है।

परमेश्वर से प्रेम करने का चुनाव करने का अर्थ है कि हमें उसके आदेशों का दायित्व उठाना होगा;

केवल अपना कर्तव्य अच्छे से निभाना ही उसके प्रति सच्चा प्रेम रखना है।

मैंने परमेश्वर को सुख पहुंचाने के लिए सत्य का अनुसरण करने का संकल्प लिया है।

परमेश्वर ने मुझे जीवन दिया है; यह बिलकुल सही और स्वाभाविक है कि मैं उसके प्रति अत्यधिक वफादार रहूँ।

मुझे उससे सच्चे दिल से प्रेम करके उसके प्रेम का प्रतिदान देना चाहिए।

कठिनाइयाँ और परीक्षण यह दिखाते हैं कि क्या लोग सच में परमेश्वर से प्रेम करते हैं।

जो सत्य को समझते हैं उन्हें परमेश्वर की गवाही देने के लिए जूझना चाहिए।

कठिनाइयाँ और परीक्षण चाहे कितने भी बड़े हों, हमें फिर भी गवाही देनी चाहिए।

चाहे हम जिएँ या मरें, हम यह जीवन परमेश्वर के लिए जीते हैं।

चाहे हम जिएँ या मरें, हम यह जीवन परमेश्वर के लिए जीते हैं।

पिछला: 283 आखिरकार मैं परमेश्वर से प्रेम कर सकती हूं

अगला: 285 बिना पश्चाताप के परमेश्वर से प्रेम करने का गीत

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें