283 आखिरकार मैं परमेश्वर से प्रेम कर सकती हूं

1

तेरा प्रेम सच्चा और शुद्ध है, तेरा दिल दयालु और ईमानदार है, और तूने मानवजाति को बचाने के लिए देहधारण किया।

मैं देख रही हूँ कि तेरी विनम्रता और तेरा छिपे रहना कितने प्यारे हैं; मैं समझ गई हूं कि तू कितना अथाह है।

मैं बहुत ध्यान से तेरा अनुसरण करती हूं, भय से कांपती हुई; तेरे वचन मुझे सुकून देते हैं।

तू मुश्किलों में मेरे साथ खड़ा रहता है, और तेरे वचनों का न्याय मुझे शुद्ध करता है और बचाता है।

मैं अंततः तुझसे प्रेम करने में सक्षम हो गई हूं; मैं दिन-रात तेरे साथ रहती हूं, और अब मैं तेरी इच्छा को समझती हूं।

बार-बार यह देखकर कि तू कितना प्यारा है, मैंने तुझे जान लिया है सर्वशक्तिमान परमेश्वर।

तू मेरे साथ है और मैंने इतना कुछ पाया है; मुझे अक्सर सुखद आश्चर्य होता है।

तूने मुझे अपना संपूर्ण प्रेम प्रदान किया है; तेरे साथ समय बिताना बहुत मूल्यवान है।

2

तेरे प्रेम ने मुझे जगा दिया है और मुझे प्रेरित किया है; मैं तुझे प्रेम करना चाहती हूं और तेरे प्रति निष्ठावान रहना चाहती हूं।

तूने अपने वचनों के प्रयोग से मेरा न्याय किया है और मुझे शुद्ध किया है, मुझे शैतान के प्रभाव से बचाया है।

मैंने तेरे कितने सारे प्रेम का आनंद लिया है; मैंने सत्य को समझ लिया है, मैं तुझे अपने दिल की गहराइयों से प्रेम करती हूं और तेरे प्रति श्रद्धा रखती हूं।

पीड़ा और शोधन मुझे तेरे करीब लाते हैं, मैं तुझे महिमामंडित करने के लिए तेरी सुंदर गवाही देने का संकल्प लेती हूं।

मैंने आज तक तेरा अनुसरण किया है, मैंने सत्य और जीवन पाया है, और आगे का मार्ग मुझे और भी उज्जवल नजर आ रहा है।

तेरा धार्मिक और पवित्र स्वभाव देखकर, मैंने तुझे जान लिया है सर्वशक्तिमान परमेश्वर।

तेरे अनुग्रह के कारण ही मैं शुद्ध हुई हूं और बचा ली गई हूं; मैं नहीं जानती कि तेरा धन्यवाद कैसे करूं।

तेरे वचनों पर अमल करके, अब मैं प्रकाश में जीती हूं, और तुझसे प्रेम करने के लिए मुझे और अधिक प्रयास करने चाहिए।

पिछला: 282 परमेश्वर में आस्था की उक्तियाँ

अगला: 284 परमेश्वर से प्रेम करने की राह पर आगे बढ़ना

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें