325 परमेश्वर में मनुष्य का विश्वास असहनीय रूप से बुरा है

1

कई लोग ईश्वर में आशीष पाने या आपदा से बचने को विश्वास करें।

उसके काम और प्रबंधन की बात सुनते ही

वे सारी रुचि खो देते।

वे समझ नहीं पाते ऐसी फीकी बात कैसे उनके फायदे की हो सके।

इसलिए ईश-प्रबंधन की बात सुनकर भी,

वे उस पर ध्यान नहीं देते।


वे उसे अनमोल न समझें, उसे

जीवन का अंग न बना पाएँ।

ऐसे लोग ईश्वर का अनुसरण करें

बस उससे आशीष पाने के मतलब से।

अगर आशीष न मिलते हों,

तो वे इसकी परवाह न करें।


ईश्वर के साथ इंसान का रिश्ता

है नग्न स्वार्थ का,

देने और पाने वाले के बीच का रिश्ता,

जैसे कोई मालिक से पैसे पाने को काम करे,

बस लेन-देन, कोई अनुराग नहीं,

न प्यार देना, न प्यार पाना,

सिर्फ दया, सिर्फ खैरात,

कोई समझ नहीं, बस शांत क्रोध है।

कोई नज़दीकी नहीं, बस धोखा है,

पार न की जा सकने वाली खाई है।


2

अब चीज़ें आ गई हैं इस मुकाम पर,

क्या है कोई जो इसे बदल सके?

कितने हैं जो समझ सकें कि ये रिश्ता कितना विकट है?

जब लोग आशीष पाने की खुशी में डूब जाते,

तो उनमें से कोई न जान सके कि ऐसा रिश्ता

कितना बदसूरत और शर्मनाक है।


ईश्वर के साथ इंसान का रिश्ता

है नग्न स्वार्थ का,

देने और पाने वाले के बीच का रिश्ता,

जैसे कोई मालिक से पैसे पाने को काम करे,

बस लेन-देन, कोई अनुराग नहीं,

न प्यार देना, न प्यार पाना,

सिर्फ दया, सिर्फ खैरात,

कोई समझ नहीं, बस शांत क्रोध है।

कोई नज़दीकी नहीं, बस धोखा है,

पार न की जा सकने वाली खाई है।


ईश्वर के साथ इंसान का रिश्ता

है नग्न स्वार्थ का,

देने और पाने वाले के बीच का रिश्ता,

जैसे कोई मालिक से पैसे पाने को काम करे,

बस लेन-देन, कोई अनुराग नहीं,

न प्यार देना, न प्यार पाना,

सिर्फ दया, सिर्फ खैरात,

कोई समझ नहीं, बस शांत क्रोध है।

कोई नज़दीकी नहीं, बस धोखा है,

पार न की जा सकने वाली खाई है।


—वचन, खंड 1, परमेश्वर का प्रकटन और कार्य, परिशिष्ट 3: मनुष्य को केवल परमेश्वर के प्रबंधन के बीच ही बचाया जा सकता है से रूपांतरित

पिछला: 324 परमेश्वर में विश्वास करने के पीछे मनुष्य के घृणित इरादे

अगला: 326 परमेश्वर में मनुष्य के विश्वास की सबसे दुखद बात

परमेश्वर का आशीष आपके पास आएगा! हमसे संपर्क करने के लिए बटन पर क्लिक करके, आपको प्रभु की वापसी का शुभ समाचार मिलेगा, और 2024 में उनका स्वागत करने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें