283 इन्सान का जीवन पूरी तरह है परमेश्वर की प्रभुता में

1

गर कोई इंसाँ माने बस नियति को, लेकिन जान पाए नहीं,

गर कोई इंसाँ माने बस नियति को, लेकिन पहचान पाए नहीं,

गर कोई इंसाँ माने बस नियति को, पर समर्पण कर पाए नहीं,

इंसाँ की नियति पर सृष्टिकर्ता की, प्रभुता को स्वीकार कर पाए नहीं,

तो जीवन उसका एक त्रासदी है, व्यर्थ में जिया उसने अपना जीवन,

उसके जीवन का कोई अर्थ नहीं है,

वो परमेश्वर के प्रभुत्व को समर्पित नहीं हो पाता है,

उसके अनुसार नहीं बन पाता है, जो सृजित प्राणी होने का असल अर्थ है,

और सृष्टिकर्ता की स्वीकृति का आनंद नहीं ले पाता है,

आनंद नहीं ले पाता है।

एक इंसाँ जो जानता है परमेश्वर की प्रभुता को,

उसे होना चाहिए सक्रिय अवस्था में।

एक इंसाँ जो देख पाता है परमेश्वर की प्रभुता को,

उसे नहीं होना चाहिए निष्क्रिय अवस्था में।

ये मानते हुए कि सभी चीज़ें पूर्वनियत हैं,

उसे नियति की सही परिभाषा जाननी चाहिए:

कि इंसाँ का जीवन पूरी तरह परमेश्वर की प्रभुता के अधीन है।

2

जब कोई अपने जीवन के चरणों को याद करता है,

जिस रस्ते चला वो, उसे मुड़कर देखता है,

चाहे रहा हो रास्ता उसका आसां या रहा हो कठिन,

वो हर कदम पर परमेश्वर को अगुआई करते हुए देख पाता है।

परमेश्वर ही था जो कर रहा था कुशल व्यवस्थाएं।

आज जहाँ है वो, वहाँ पहुँचा कैसे जान नहीं पाता है।

परमेश्वर का उद्धार पाना, उसकी प्रभुता को स्वीकारना

कितना बड़ा सौभाग्य है।

3

जब कोई परमेश्वर की प्रभुता समझने लगता है,

तो परमेश्वर द्वारा नियोजित हर चीज़ के प्रति,

दिल से वो समर्पित होना चाहता है,

परमेश्वर की व्यवस्था का पालन करना चाहता है।

जब कोई परमेश्वर की प्रभुता समझने लगता है,

तो परमेश्वर के खिलाफ विद्रोह न करने का,

उसके आयोजनों को स्वीकारने का, संकल्प और विश्वास उसमें जगता है।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है III' से रूपांतरित

पिछला: 282 बहुत पहले ही तय कर दिया इंसान की नियति को परमेश्वर ने

अगला: 284 मनुष्य की पीड़ा कैसे उत्पन्न होती है?

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें