284 मनुष्य की पीड़ा कैसे उत्पन्न होती है?

लोग ईश्वर की संप्रभुता नहीं पहचानते,

विद्रोह और ढिठाई से भाग्य का सामना करते,

नियति और ईश्वर के अधिकार को नकारते,

अपने हालात, नियति बदलने की

बेकार आशा करते।

वे सफल न होंगे, वे हमेशा हारेंगे।

उनकी आत्मा में होने वाला संघर्ष

दर्द लाता है, गहरा घाव देता है,

वे अपना जीवन व्यर्थ गवांते हैं।

क्या है इंसान की पीड़ा का कारण?

कारण है वे मार्ग जिन पर वे चलते,

विकल्प जो वे चुनते

वे ढंग जिससे वे अपना जीवन जीते।


इंसान की त्रासदी उसकी खुशी से

जीने की कामना नहीं,

शोहरत-दौलत की चाहत,

और नियति से उसका विरोध नहीं।

ईश्वर है, इंसान की नियति का शासक है,

जानकर भी, वो अपने

तरीके न सुधारे, ये त्रासदी है।

वो ईश्वर की संप्रभुता से होड़ करता,

केवल टूट जाने पर ही हार स्वीकारता।

ईश्वर कहता, समझदार हैं वो जो

समर्पण करते हैं,

संघर्ष करने वाले वास्तव में मूर्ख हैं।

क्या है इंसान की पीड़ा का कारण?

कारण है वे मार्ग जिन पर वे चलते,

विकल्प जो वे चुनते

वे ढंग जिससे वे अपना जीवन जीते।

शायद कुछ लोगों को एहसास न हो।

पर जब तुम समझ जाते,

जब तुम सच में पहचान लेते

कि ईश्वर मनुष्य का भाग्य-विधाता है,

जब तुम देखते, ईश्वर ने तुम्हारे लिए

जो योजना बनाई है,

वो एक बड़ी सहायता, सुरक्षा है,

तो दर्द तुम्हारा जल्द हल्का होने लगता,

पूरा अस्तित्व तुम्हारा मुक्ति पा जाता।


— 'वचन देह में प्रकट होता है' से रूपांतरित

पिछला: 283 इन्सान का जीवन पूरी तरह है परमेश्वर की प्रभुता में

अगला: 285 दुख से भर जाते हैं दिन परमेश्वर के बिन

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

Iसमझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग,सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के लिए...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

Iपूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने,हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर धर्मोपदेश और संगति अंत के दिनों के मसीह—उद्धारकर्ता का प्रकटन और कार्य राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें