285 दुख से भर जाते हैं दिन परमेश्वर के बिन

1

जब समझे न कोई नियति को, या समझे न परमेश्वर के प्रभुत्व को,

जब कोई जानबूझकर टटोलते हुए आगे बढ़े, धुंध में लड़खड़ाये,

तो सफ़र बेहद मुश्किल हो जाता है, सफ़र इंसान का दिल तोड़ देता है।

दुख से भर जाते हैं दिन परमेश्वर के बिन।

अगर कोई स्वीकार ले सृष्टिकर्ता के प्रभुत्व को,

समर्पित हो जाये उसकी व्यवस्थाओं को, और खोजे सच्चे मानव जीवन को,

तो वो हो सकता है मुक्त व्यथा से, हो सकता है मुक्त अपने दुखों से,

पीछा छुड़ा सकता है ज़िंदगी के ख़ालीपन से,

पीछा छुड़ा सकता है ज़िंदगी के ख़ालीपन से।

2

जब किसी के संग परमेश्वर न हो, जब कोई उसे न देख सके,

जब कोई उसके प्रभुत्व को पहचान न पाये,

हर दिन दुखों से भरा हो, हर दिन बेमानी हो।

कोई कहीं भी हो या कुछ भी करता हो,

उसके जीने के साधन और लक्ष्य कुछ भी हों,

जब किसी के संग परमेश्वर न हो,

तो अंतहीन कष्टों और दुखों से पीछा छुड़ा नहीं सकता वो।

दुख से भर जाते हैं दिन परमेश्वर के बिन।

अगर कोई स्वीकार ले सृष्टिकर्ता के प्रभुत्व को,

समर्पित हो जाये उसकी व्यवस्थाओं को, और खोजे सच्चे मानव जीवन को,

तो वो हो सकता है मुक्त व्यथा से, हो सकता है मुक्त अपने दुखों से,

पीछा छुड़ा सकता है ज़िंदगी के ख़ालीपन से,

पीछा छुड़ा सकता है ज़िंदगी के ख़ालीपन से।

3

जब अपनी नियति पर परमेश्वर के प्रभुत्व को पहचान पाता है इंसान,

तो इसे जानता, स्वीकारता है समझदार इंसान,

और अलविदा कहता है उन दुख भरे दिनों को

जब अपने हाथों से एक अच्छी ज़िंदगी बनाने की कोशिश करता था इंसान।

अब अपनी नियति से लड़ेगा नहीं,

और तथा-कथित लक्ष्यों के पीछे भागेगा नहीं इंसान।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है III' से रूपांतरित

पिछला: 284 मनुष्य की पीड़ा कैसे उत्पन्न होती है?

अगला: 286 सत्य से प्रेम करने वाले ही परमेश्वर की संप्रभुता को समर्पित हो सकते हैं

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें